भारत मे दिसंबर का अंतिम हफता – क्रिशमस की खुशी या गुरु गोविंद सिहं के बलिदान पर शोक?


सरवेश कुमार तिवारी

आज वीर कुल गौरव गुरु गोविन्द सिंह जी की जयंती है, जिन्हों ने हिन्दू धर्म रक्षार्थ अपने पुत्रो को शहीद किया था। धन्य हैं वो माता जिसने अजित सिंह, जुझार सिंह, जोरावर सिंह और फतेह सिंह को जन्म दिया।

धन्य है वो लाल जिन्होने अपनी भारत भूमि, अपने धर्म और अपने संस्कार की रक्षा हेतु माँ के दूध का कर्ज चुकाया और यौवन आने के पहले मृत्यु का वरण किया।

चमकौर की गढ़ी का युद्ध: एक तरफ थे मधु मक्खी के छत्ते की तरह बिलबिलाते यवन आक्रांता और दूसरी तरफ थे मुट्ठी भर रण बाकुँरे सिक्ख – सिर पर केशरिया पगड़ी बाधें, हाथ मे लपलपाती भवानी तलवार लिये … सामने विशाल म्लेच्छ सेना और फिर भी बेखौफ!

दुष्टों को उनहोंने गाजर मूली की तरह काटा। वीर सपूत गुरुजी के दोनो साहबजादे – 17 साल के अजितसिंह और 14 साल के जुझार सिंह – हजारों हजार म्लेच्छो को मार कर शहीद हुये।

विश्व इतिहास में यह एक ऐसी अनोखी घटना है जिसमे पिता ने अपने तरूण सपूतो को धर्म वेदी पर शहीद कर दिया और विश्व इतिहास मे अपना नाम स्वणृक्षरो मे अंकित करवा दिया। कया दुनिया के किसी और देश मे ऐसी मिसाल मिलती है?

यवन शासक ने उन रण बांकुरों से उनके धर्म और संस्कृति के परिवर्तन की माँग की थी जिसको उनहोंने सिरे से खारिज कर दिया। गुरू महाराज के उन दो छोटे सिंह शावको ने अपना सर नही झुकाया। इस पर दुष्ट यवन बादशाह ने 7 साल के जोरावरसिंह और 5 साल के फतेह सिंह को जिंदा दीवाल मे चिनवा दिया।

कितना बड़ा कलेजा होगा वीर सपूतों का, कितनी गर्माहट और कितना जोश होगा उस वीर प्रसूता माँ के दूध मे – जो पाँच और सात साल के बच्चों की रगों मे रक्त बन कर बह रहा था – कि उनमे इतना जज्बा – इतना जोश – था कि अपने धर्म संस्कृति की रक्षा के लिये इतनी यातनादायक मृत्यु का वरण किया।

और कितने दुष्ट, कितने नृशंस, कितने कातिल और कितने कायर थे म्लेच्छ जिनका मन फूल जैसे बच्चो को जिन्दा चिनवाते नही पसीजा था!

यही कारण है कि यह भूमि वीर प्रसूता और हम आज गुरू गोविंद सिंह और उनके साहबजादो को श्रृद्धा और विनम्रता से याद कर रहे हैं।

हम मे से अधिसंख्य को इन वीरो के बलिदान की जानकारी भी नही होगी क्योकि हमने तो अकबर महान और शाहजहाँ का काल स्वण काल पढ़ा है; हमने तो इन वीर पुरुषो के विषय मे किसी किताब के कोने मे केवल दो लाइने भर पढ़ी होंगी।

हमारा यह कतॆवय है कि हम अपने बच्चो को इतिहास की यह जानकारी दें, पढ़वाये, गूगल पर गुरु गोविंद सिंह जी को सर्च करे और जो विवरण प्राप्त हो उसे पढ़ें और पढ़वायें। यह जरुरी है कि हम अपने इतिहास और पुरखो के बारे मे जानें।

समीर पालेजा

ये जो सप्ताह अभी चल रहा है यानि 21 दिसम्बर से लेकर 27 दिसम्बर तक, इन्ही 7 दिनों में गुरु गोबिंद सिंह जी का पूरा परिवार शहीद हो गया था। 21 दिसम्बर को गुरू गोविंद सिंह द्वारा परिवार सहित आनंदपुर साहिब किला छोङने से लेकर 27 दिसम्बर तक के इतिहास को हम भूला बैठे हैं!

इधर हिन्दुस्तान Christmas के जश्न में डूबा हुआ है और एक दूसरे को बधाइयां दे रहा है!

एक ज़माना था जब यहाँ पंजाब में इस हफ्ते सब लोग ज़मीन पर सोते थे क्योंकि माता गूजर कौर ने वो रात दोनों छोटे साहिबजादों (जोरावर सिंह व फतेह सिंह) के साथ, नवाब वजीर खां की गिरफ्त में – सरहिन्द के किले में – ठंडी बुर्ज में गुजारी थी। यह सप्ताह सिख इतिहास में शोक का सप्ताह होता है।

पर आज देखता हूँ कि पंजाब समेत पूरा हिन्दुस्तान जश्न में डूबा हुआ है।

गुरु गोबिंद सिंह जी की कुर्बानियों को इस अहसान फरामोश मुल्क ने सिर्फ 300 साल में भुला दिया !!! जो कौमें अपना इतिहास – अपनी कुर्बानियाँ – भूल जाती हैं वो खुद इतिहास बन जाती है।

आज हर भारतीय को – विशेषतः युवाओं व बच्चों को – इस जानकारी से अवगत कराना जरुरी है। हर भारतीय को क्रिसमस नही, हिन्द के हिन्दू शहजादों को याद करना चाहिये। यह निर्णय आप ही को करना है कि 25 दिसंबर (क्रिसमस) को तवज्जो मिलनी चाहिए या फिर क़ुरबानी की इस अनोखी – शायद दुनिया की इकलौती मिसाल – को!

21 दिसंबर:

श्री गुरु गोबिंद सिंह जी ने परिवार सहित श्री आनंद पुर साहिब का किला छोड़ा।

22 दिसंबर:

गुरु साहिब अपने दोनों बड़े पुत्रों सहित चमकौर के मैदान में पहुंचे और गुरु साहिब की माता और छोटे दोनों साहिबजादों को गंगू नामक ब्राह्मण जो कभी गुरु घर का रसोइया था उन्हें अपने साथ अपने घर ले आया।

चमकौर की जंग शुरू और दुश्मनों से जूझते हुए गुरु साहिब के बड़े साहिबजादे श्री अजीत सिंह उम्र महज 17 वर्ष और छोटे साहिबजादे श्री जुझार सिंह उम्र महज 14 वर्ष अपने 11 अन्य साथियों सहित मजहब और मुल्क की रक्षा के लिए वीरगति को प्राप्त हुए।

23 दिसंबर :

गुरु साहिब की माता श्री गुजर कौर जी और दोनों छोटे साहिबजादे गंगू ब्राह्मण के द्वारा गहने एवं अन्य सामान चोरी करने के उपरांत तीनों को मुखबरी कर मोरिंडा के चौधरी गनी खान और मनी खान के हाथों ग्रिफ्तार करवा दिया गया और गुरु साहिब को अन्य साथियों की बात मानते हुए चमकौर छोड़ना पड़ा।

24 दिसंबर :

तीनों को सरहिंद पहुंचाया गया और वहां ठंडे बुर्ज में नजरबंद किया गया।

25 और 26 दिसंबर:

छोटे साहिबजादों को नवाब वजीर खान की अदालत में पेश किया गया और उन्हें धर्म परिवर्तन करने के लिए लालच दिया गया।

27 दिसंबर:

साहिबजादा जोरावर सिंह उम्र महज 8 वर्ष और साहिबजादा फतेह सिंह उम्र महज 6 वर्ष को तमाम जुल्म ओ जब्र उपरांत जिंदा दीवार में चीनने उपरांत जिबह (गला रेत) कर शहीद किया गया और खबर सुनते ही माता गुजर कौर ने अपने साँस त्याग दिए।

Join discussion:

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: