To Rahul, his Family and Congress “Rama is Non-existent”. His “Ram-bhakti” is Fake!


Rahul Gandhi and his younger sister Priyanka Gandhi are trying to prove that they are better Hindus than thousands of others. Let them live in their own make-believe world. In Hinduism, there is no place for a demonstration, and this is one of the reasons that a person who exhibits by his/her outward behaviour of claiming to a Hindu is considered to be an impostor. Simplicity, good conduct and abhorrence from dishonesty are some of the qualities, which are the sine qua non for Hinduism. It is an altogether different matter that not many people adhere to it in real life. It can be seen from the lives of hypocrite Babas, who believe more in ostentation than in the real religion.
     However, what is most significant is that only a few years ago the Government of the Congress of which Sonia Gandhi was the President had filed an affidavit in the Supreme Court that Rama was a mythical person. It resonated the words of Karunanidhi, one of the biggest enemies of Hinduism, who said that there was no Ramsetu. Karunanidhi had even questioned the skill of Lord Rama and his army by asking that from which college Rama and his army of monkeys had studied the engineering that helped them in building a bridge? Can there be any discussion or dialogue with persons like Karunanidhi, who was more known for his womanizing and writing the scripts of phantasy films than learning and visionary thinking? But now the same Rahul Gandhi and his sister are visiting from temple to temple to show that they are also devout Hindus. They should be asked whether they were correct then or are correct now? By the way, it is difficult to remember if they have ever visited any temple in Delhi, where they live.
      The love of the Congress Party for Lord Rama is a total sham and fake. This can be known from the undeniable fact that during the hearing of Ayodhya issue in the Supreme Court, the Advocates, who are also the important leaders of Congress party threw spanners in the hearing and demanded that it should be adjourned till July !5, 2019, when the new government at the Centre was installed. They knew it well that during the hearing their stand will be exposed. 
    These leaders have many times unabashedly defended JNU lobby, that openly works against the unity and the integrity of the country. It is the same party, which promoted the policy of appeasement and communalism, that has eaten into the vitals of the country. The need is to beware of such leaders, who have gained expertise in saying and showing something, which they will never believe. The hiatus, the chasm between the words and works and preaching and practice of these people is absolutely unbridgeable. Can there be any bigger deception to befool the people?

A Lie in the name of Modi being Peddled as Truth


By: Parmanand Pandey, Advocate, Supreme Court (Secretary General IPC)

At a time when the technology has laid bare almost everything of life, it is quite perplexing that how it has also been able to perpetuate any lie to the extent that people tend to believe it as truth. For instance; when did Narendra Modi, while campaigning for the Lok Sabha elections in 2014, say that he would get Rs.15 lakh transferred to the bank accounts of every individual once he came to power? Those who have been hauling Narendra Modi over coals on this issue have not circulated any video so far, that too, when every word of what he speaks from the public platform is recorded and widely circulated.

He has certainly said that the amount of black money that has been stashed away from India was so enormous and staggering that if it was brought back it would be to the tune of depositing Rs 15 lakh in everyone’s bank accounts. This is an easy way of explaining any complex matter. It is like saying that threads produced by a mill will be enough to encircle the earth ten times. In the seventies, a statement was repeated ad nauseam by most of the leaders that the country was sunk so much in debt of foreign institutions and countries that every child in India was born with a debt of Rs. four to five hundred on his/ her head.

Black money from foreign countries might not have brought back because of certain international treaties but there is one undeniable fact that the outflow of Indian money to the foreign countries and banks has largely been stopped. The business of money laundering is dying and it may soon become a thing of the past. This in itself is not a small achievement.

This has been possible mainly because of the sudden shock therapy of the demonetization, which could not have been a hundred per cent successful for two reasons. One was the gang of corrupt bank personnel and the other was the policy of exchange of Rs. 4,000 of old notes for new notes. In fact, everybody should have been asked to first deposit the old notes in his/her accounts and then could have been allowed to withdraw Rs. four or five thousand. This would, without doubt, have helped more effective cleansing of the black money and the corruption of bank personnel and officials would have been minimized.

Despite these flaws, the condition of banks got considerably improved. Many of the banks, which were practically on the verge of the closure and were gasping for the breath, again got sanjeevani for their survival as they became flush with funds. The good effects of Notebandi can be seen in every walk of life. A few years ago, it was a common refrain that country was inflicted with the ‘parallel economy of black money’ but now nobody talks about it as it is hardly in existence. The rates of properties have become, more or less, realistic across the country and it is not flaring up as it used to in the previous years. This is the sobering effect of the demonetization.

Modi is the Only Glimmer of Hope 


 By: Parmanand Pandey, Advocate, Supreme Court (Secretary General IPC)

One often wonders whether the multi-billion fraudsters like Vijay Mallya and Nirav Modi could ever have thought of fleeing the country if Modi Government had not been in power. These cheats had been freely roaming about in the country without any fear of the law and plundering the people.  Obviously, they were enjoying the patronage and support of the erstwhile governments. There are dozens of such industrialists who are under the scanner because they have looted the banks. Many of the responsible bank officials have been on record that some big business persons, who used to approach the bigwigs in the government to put pressure on them. Some influential persons were giving instructions to them through the Finance Minister to grant them to enormous amounts of loans throwing all the norms to the winds. The top-notch officials of the banks had no choice but to obey the orders, which were coming to them from above. However, those who have fled the country had started feeling the heat after the Modi Government came to power because the noose was tightening around them. They were not having any problems and difficulties in getting the loans and not paying them due to the connivance and orders of the bosses in the Congress Government.

 They were not at all worried about the routine notices which were sent to them from the banks from time to time. It is only after the Modi Government assumed the office that their wrong deeds were exposed and finding no place to hide, they manoeuvred their way to go out of the country. There is no dearth of such people, who are still in authority and make all-out efforts to show that the present government is seen in the bad light and that was the reason that they facilitated the absconding of Mallya and Nirav Modi.

 After all, only five years ago some politicians used to flaunt and boast their proximity with an absconder Vijay Mallya. When such heavyweight politicians were fawning to them, then who could have mustered the courage to tighten grip against  Mallya. The same thing has happened in the case of diamantaire Nirav Modi who had taken loans during the Congress regime and when he found that he could not escape action against him during Modi raj,  he manipulated to flee out of India.

 However, it is a matter of huge satisfaction that those who tried to cock-the-snook to the system are now finding themselves in the hot soup even in the foreign countries, thanks mainly to the highly effective diplomacy of the Modi Government. It may be mentioned here that while Vijay Mallya had taken the loan of around Rs. 9,500/- crores but the government have attached his property many hundred crores more than he has swindled. This is clear from his disappointment when he tweeted that the Government was doing injustice to him by seizing the property more than the loaned amount. Despite all his dirty tactics, he cannot remain any longer in the foreign land. Sooner than later he will be repatriated to India from London.

Another beguiler Nirav Modi has already been arrested and the days are not far away when he will be brought back to India to face the trial and punishment by our Courts. Apart from these businessmen, there are hordes of corrupt politicians and bureaucrats who have amassed an enormous amount of money by misusing their power and position, who are also now on the run. In this category, there are a few names which automatically come to mind like those of Lalu Prasad Yadav, Om Prakash Chautala etc, who are already in jail. Some others may very soon land up in jail which will possibly include P. Chidambaram, his son Karthi, Mayawati, Akhilesh Yadav, Mamta Banerjee, Rahul Gandhi, Ahmad Patel, Sonia Gandhi, Robert Vadra and many more. Some bureaucrats have already become jailbirds, and some are waiting for their turns. This is perhaps the only reason that most of the corrupt politicians have got united to dislodge Modi from the power.

In this critical hour when the termites of corruption have hollowed the country, Modi appears to be the only glimmer of hope.

भगत सिंह के साथी क्रांतिकारी के विचार: एक आध्यात्मिक विश्व क्रान्ति की जरूरत !


यह दस्तावेज पहली बार 4 मई 2014 को प्रकाशित हुआ था। 23 मार्च 2019 को पुनः प्रकाशित:

प्रस्तावना:

(क) – आजादी की लड़ाई का आधा और अपूर्ण इतिहास : भारत माता के ऐसे बहुत सारे सपूत थे जो इस देश की आज़ादी की खातिर फांसी के फंदे पर खुशी से झूल गए, अंग्रेजों की बंदूकों की गोलियां खाई , उनकी जेलों में रहे और अकथनीय कष्ट और प्रताड़नाएं सही। उस समय के भारत वासी उनको गर्व से क्रांतिकारी कहते थे और अंग्रेज उनको आतंकवादी कहते थे। उनका इस देश के इतिहास में कहीं नाम दर्ज नहीं है। यह तो सच्चाई का एक पक्ष है।

एक दूसरा भी पक्ष है। वे क्रांतिकारी भावना के आवेश में आकर अंग्रेजों के खिलाफ हथियार नहीं उठाते थे – उनके विचार हर पैमाने पर परिपक़्व और यथार्थ के बहुत करीब थे। सच्चाई तो यह है कि उनके विचार उनकी उम्र के लिहाज से बहुत आगे थे – भगत सिंह, चंद्र शेखर आज़ाद और उनके तमाम साथियों की उम्र 24 – 25 साल से अधिक नहीं थी।  यह उम्र खेलने खाने और मौज मस्ती करने की होती है, लेकिन ये क्रांतिकारी गजब के विचारक भी थे।  आज़ादी से पहले और आज़ादी के बाद भी इन क्रांतिकारियों के विचारों और गतिविधियों का असली महत्त्व केवल अंग्रेज ही भली भांति जानते थे – और उन्होंने भारत को आज़ाद करने का कारण केवल इन्ही क्रांतिकारियों को माना भी है – लेकिन हम भारतवासी आज भी उनके कार्यों और विचारों को नजरअंदाज करते हैं और यह समझते हैं कि अंग्रेजों ने भारत को केवल सविज्ञा, असहयोग, विदेशी माल के बहिष्कार आदि जैसे आंदोलनो से डर कर आज़ाद कर दिया था।

(ख) – क्रांतिकारियों के बलिदान और उनके विचार : याद रखने की बात यह है कि इन क्रांतिकारियों के विचार असहनीय दुःख उठा कर, कष्ट – पीड़ा सह कर ही परिपक़्व हुए थे और सच्चाई के इतने करीब पहुंचे थे। उनके ये विचार अंग्रेजों के द्वारा की गई नजरबंदी के सुखद कमरों में आराम से बैठ कर नहीं गढ़े गए थे। ये क्रांतिकारी और इनके विचार दोनों ही इतिहास के पन्नो में कही दब कर खो गए हैं – किसी को भी आज फुर्सत नहीं है कि यह जाना जाए कि आग में तपे हुए इन क्रांतिकारियों ने भारत के बारे में क्या सोचा था। बहुत से मार्क्सवादी और वामपंथी लोग केवल भगत सिंह के लिखे पत्रों का हवाला दे कर यह साबित करने की कोशिश करते हैं कि ये क्रांतिकारी वामपंथी ही थे।  कई लोग चंद्र शेखर आज़ाद के करीबी साथी यशपाल का भी उदाहरण देते है जोकि बाद में मशहूर वामपंथी लेखक बन गया था।

लेकिन लोगों को यह पता नहीं है कि चंद्र शेखर आज़ाद समेत लगभग सभी क्रांतिकारी आध्यत्मिक, ईश्वर विश्वासी और मृत्यु को जीवन का अंत नहीं मानने वाले लोग थे। इसी सन्दर्भ में , एक बार तो बात यहाँ तक पहुंची कि यशपाल को, एक दूसरे दिवंगत क्रांतिकारी भगवती चरण वोहरा (जो लाहौर में बम परीक्षण करते हुए दुर्घटना वश मृत्यु को प्राप्त हो गए थे ) की विधवा पत्नी – दुर्गा भाभी – को भगा ले जाने के जुर्म में गोली मार देने की सजा चंद्र शेखर आज़ाद की अध्यक्षता में कुर्सियां बाग़ में हुई मीटिंग में दी गयी थी – हालाँकि कुछ कारणों से यशपाल बच गए थे। इस तरह का बर्ताव वामपंथियों की नजर में सही हो सकता था, लेकिन सभी क्रांतिकारी इसे अति गंभीर अपराध मानते थे। आज उन क्रांतिकारियों के भारत के बारे में विचार ढूंढ पाना लगभग असंभव काम है।

(ग) – क्रांतिकारियों पर मार्क्स , लेनिन और रुसी क्रांति का असर : जैसा कि भगत सिंह के लिखे पत्रों से पता चलता है, “हिंदुस्तान रिपब्लिकन एसोसिएशन तथा हिंदुस्तान रिपब्लिकन आर्मी” से जुड़े क्रांतिकारियों में 1927 के आस पास “मार्क्सवाद, कम्युनिज्म और सोशलिज्म” का असर पड़ना शुरू हो गया था और इसी असर के कारण “हिंदुस्तान  रिपब्लिकन एसोसिएशन” का नाम बदल कर “हिंदुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन एसोसिएशन ” किया गया था। भगत सिंह को जब जेलर फांसी देने के लिए ले जाने के लिए आया तो भगत सिंह उस समय रूस के क्रन्तिकारी कम्युनिस्ट नेता “लेनिन” की पुस्तक पढ़ रहे थे और भगत सिंह ने जेलर को कहा, “ज़रा ठहरो, पहले एक क्रन्तिकारी को दूसरे क्रन्तिकारी से मिल लेने दो!”

मार्क्सवाद का यही असर, आज़ादी के बाद भी उन क्रांतिकारियों पर बना रहा जो ज़िंदा बच गए थे। यह इसी मार्क्सवाद का असर था कि आज़ादी के बाद यशपाल एक कम्युनिस्ट लेखक के रूप में मशहूर भी हुए।  लेकिन यशपाल या इसी तरह के दूसरे कम्युनिस्ट क्रन्तिकारी लेखकों या नेताओं ने कभी भी मार्क्सवादी दर्शन की अवधारणाओं की गहराई से जाँच पड़ताल नहीं की थी। यह बौद्धिक काम बहुत मुश्किल भी था और लोकप्रिय भी नहीं था। पूरी दुनिया में उस समय सोवियत यूनियन की विचारधारा का दबदबा था और भारत में भी जवाहर लाल नेहरू से इंदिरा गाँधी तक सत्ताधारी सोशलिज्म और कम्युनिज्म की चकाचौंध से प्रभावित थे।

(घ) – कई क्रांतिकारियों ने मार्क्सवाद का गहरा अध्ययन किया और उसके अधूरेपन को उजागर किया : ऐसे में, कुछ क्रान्तिकारी फिर भी थे जिन्होंने “मार्क्सवाद, सोशलिज्म और कम्युनिज्म” का गहराई से अध्ययन किया और उनकी दार्शनिक धारणाओं के खोखलेपन को समझा और अपने स्तर पर उजागर भी किया। लेकिन ऐसे क्रांतिकारियों  को ढूंढ पाना और उनके विचारों को इकठ्ठा करना लगभग नामुमकिन काम है। ऐसे ही एक क्रान्तिकारी बाबू रामचरण सिंह थे। बाबू रामचरण सिंह चंद्र शेखर आज़ाद और भगत सिंह के एक क्रांतिकारी साथी और “हिंदुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिक एसोसिएशन” के सदस्य थे।

वह ग्राम बडकली (जिला मेरठ) के रहने वाले थे और अपने ही ग्रामवासी और चन्द्रशेखर आजाद के करीबी साथी भगीरथ लाल के सम्पर्क मे आकर हिन्दुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन ऐसोसिएसन से जुड गये थे। 18-19 साल की आयु मे वह 1927 में सरधना (मेरठ जिले का एक कस्बा) मे अपनी पढाई बीच मे ही अधूरी छोड कर दिल्ली आ गये और अग्रेजों के खिलाफ क्रान्तिकारी गतिविधियो मे भाग लेने लगे।

(ङ) – बाबू रामचरण सिंह की क्रान्तिकारी गतिविधियां:

दिल्ली में “वाईसरॉय ट्रेन आउटरेज” के बाद अंग्रेज सरकार ने क्रान्तिकारियों पर मुकदमे चलाने के लिए एल एस वाहिट की अध्यक्षता मे (क॔वर सेन और अमीर अली सदस्यो के साथ) “दिल्ली कोन्सपीरेसी कमीशन”  का गठन किया। इस कमीशन मे वादा-माफ सरकारी गवाह नम्बर  16  किसन बल ने बाबू रामचरण सिंह का नाम बता दिया (पेज  1015, Proceedigs of Delhi Conspiracy Commission)  और वह मटिया महल में ब्रिटिश पुलिस के छापे के दौरान क्रांतिकारियों के छुपने के स्थान से बच निकले, पर बाद में गिरफ्तार कर लिए गए।

उन्होंने ब्रिटिश पुलिस की अकथनीय यातनाएँ सही और दिल्ली की जेल में रहे। उन पर “दिल्ली कांस्पीरेसी कमीशन” से इतर अलग मुकदमा चला जो उस समय “दिल्ली बम केस” के नाम से जाना जाता था। पूरे मुक़दमे के दौरान वह “अंडर ट्रायल ” के तौर पर जेल में रहे और मुक़दमे में बरी होने के बाद ही जेल से बाहर आए थे। उनका मुकदमा अदालत में वकीलों के कानूनी दावपेंच का एक बेहतरीन नमूना था

(च) – उनका एक लेख:

सौभाग्य से, इस पोस्ट के लेखक को बाबू रामचरण सिंह के विचारों का हिंदी में टाइप किया हुआ एक लेख मिल गया, जिसमे उन्होने अपने विचार अपने क्रान्तिकारी जीवन के अनुभव और अध्ययन के आधार पर लिखे हैं। उनकी मृत्यु 1976 मे हो गई थी। इस लेख को हम इस इंटरनेट युग में यहाँ यथावत प्रकाशित कर रहे हैं। इस लेख के आरम्भ और अंत के कुछ पृष्ठ खो गए हैं, लेकिन जो कुछ भी मिला है और यहाँ दिया जा रहा है उससे उनके विचार स्पष्ट हो गए हैं।

वह भारत को एक आध्यत्मिक शक्ति के विश्व व्यापी बौद्धिक प्रकाश पुंज के रूप में देखते थे। उनकी नज़र में, वाम पंथ की दार्शनिक धारणाएं, आध्यत्मिक दार्शनिक धारणाओं के मुकाबले में, बहुत ही बौनी और औच्छी हैं।  उनके इस लेख को पढ़ने से मालूम होता है कि वह अंग्रेजों के खिलाफ मार – काट करने वाले एक क्रांतिकारी भर ही नहीं थे, बल्कि एक उच्च बौद्धिक विचारक भी थे। इस लेख को हम कई भागों में बाँट कर शीर्षक के साथ लिख रहे हैं।

(ण) – बाबू रामचरण सिंह के लेख में भारत द्वारा “आध्यात्मिक विश्व क्रांति” के नेतृत्व का जिक्र : प्रसंगवश, यहाँ यह कहना भी अनुचित न होगा कि वर्तमान समय के सन्दर्भ में, इस क्रांतिकारी स्वतंत्रता सेनानी के विचारों के द्रष्टिकोण से, भारत का उदय एक आध्यात्मिक ताकत के रूप में ही होना चाहिए। बाबू रामचरण सिंह के बारे में पूरी जाकारी आप यहाँ अंग्रेजी में पढ़ सकते हैं।  

विकास-वाद,भौतिकवाद, मनुष्य, समाज, मार्क्सवाद, वामपंथ, क्रांति और क्रांतिकारी राजनैतिक पार्टी : बाबू रामचरण सिंह

1 – आजादी की लड़ाई और क्रांतिकारियों के विचार: 

…….. (पृष्ठ संख्या  1 से यहाँ तक लेख की सामग्री नष्ट हो गई) …… को मान्यता का एक उदाहरण भी प्रस्तुत किया है जैसे बॉयल का गैस का दाब का सिद्धांत।

खैर कोई भी मार्क्सवादी क्रांतिकारी इस पर ध्यान नहीं देता , और आखिरकार इस अंध विश्वाश का परिणाम नक्सलपंथी राजनैतिक पागलपन में प्रतिफलित हुआ।  वास्तव में मानव विचारों के सम्बन्ध में श्री अरविन्द का निम्नलिखित कथन ही युक्तियुक्त है :-

“कोई भी मत या सिद्धांत न तो सत्य होता है और न असत्य ही , वह तो उपयोगी होता है या अनुपयोगी हो जाता है क्योंकि मत या सिद्धांत काल की सृष्टि है और काल नाशवान है , काल परिवर्तन होने से सिद्धांत पुराने और अनुपयोगी हो जाते हैं और उनकी जगह नए सिद्धांत ले लेते हैं। और इसी प्रकार विचारों का विकास चलता रहता है। ”

हमारे देश के क्रांतिकारियों का सूत्रपात बंगाल के विप्लव दल से होता है – क्योंकि पहिले विदेशी शासक बंगाल में जमे इसीलिए वहीँ क्रांतिकारियों का सबसे पहिले सूत्रपात हुआ। इन क्रांतिकारियों को श्री राम कृष्ण परम हंस, विवेकानंद और श्री अरविन्द से प्रेरणा मिली पंजाब , यू.  पी. और महाराष्ट्र के क्रांतिकारियों को आर्य समाज और महर्षि दयानन्द से प्रेरणा मिली। जिन लोगों ने क्रांति की पहली शिक्षा ग्रहण की वह इन संतों से प्रभावित थे – वह कितने प्रभावित थे यह इसी से सिद्ध हो जाता है कि सन 1924 तक भारत की क्रान्तिकारी पार्टी (हिन्दुस्तान रिपब्लिकन एसोशियेसन) में काली की पूजा होती थी – माँ भगवती दुर्गा को भारत माता को राष्ट्रिय चेतना का प्रतिनिधि माना जाता था – और यह मान्यता कोई कल्पना या ख्याल पुलाव मात्र नहीं माना था बल्कि उन क्रांतिकारियों का यह द्रढ विश्वास था कि भारत माता की एक सुपर चेतना हमारे देश के खेतों में , पहाड़ों में नदियों में और घाटियों में फैली हुई है और निवास करती है – जो हमारे देश के जन समूह की विकास की दिशा निर्धारित करती है, उन्हें प्रेरित करती है और संचालित करती है।

यह क्रांतिकारी हमारे राष्ट्र की परम्पराओं के अनुसार हमारी संस्कृति के अनुसार सही मार्ग पर थे – यदि द्वंदात्मक और ऐतिहासिक भौतिकवाद का दर्शन हमारे देश के क्रांतिकारियों का वेद न बन जाता तो हमारे देश में भी उनकी आर्थिक आवश्यकताओं के अनुसार और हमारे विकास की दिशा के अनुकूल एक राजनैतिक दर्शन का विकास हो जाता और आज यह राजनैतिक क्षेत्र की अराजकता और अवसरवाद , नैतिक अध: पतन की पराकाश्ठा का प्रदर्शन न होता। लेकिन ऐसा होना अनिवार्य था इसे रोका नहीं जा सकता था, क्योंकि मार्क्सवाद भी मानव विकास के एक आवश्यक पक्ष की अभिव्यक्ति करता है।  कुल मानव विकास का उसे दर्शन बताना एक अतिश्योक्ति है। यह केवल मानव विकास के एक पक्ष के विकास का राजनैतिक दर्शन है।

2 – मानव विकास की अवधारणा और एक विचारधारा का महत्व :

मानव विकास के सम्बन्ध में दो सिद्धांत: यहाँ पर सबसे पहले यह प्रश्न उपस्थित होता है कि  क्या विकास को स्वत: स्फूर्त प्रक्रिया के लिए किसी दर्शन विज्ञान की आवश्यकता है ? क्योंकि विकास तो होगा है चाहे उसका कोई विज्ञान हो या न हो, क्योंकि क्रम विकास विश्व की स्वाभाविक प्रक्रिया है।  लेकिन विज्ञान को , मानव जाति से सम्बद्ध दूसरे विषयों में जैसी आवश्यकता है ऐसी ही आवश्यकता उसे विकास के विषय में भी (विज्ञान की आवश्यकता) है। सब जगह विज्ञान की यही भूमिका है कि हम लक्ष्य – परक हो कर अपने लक्ष्य की ओर आगे बढ़ सकते हैं और मार्ग के अवरोधों को हटा सकते हैं।

विज्ञान भूल से बचाता है और लक्ष्य – प्राप्ति के समय को कम करता है। हरेक राजनैतिक पार्टी  की विषय – वस्तु समाज शास्त्र होता है क्योंकि राजनैतिक पार्टियां सामाजिक इतिहास में अपनी नेतृत्व कारी भूमिका निबाहना चाहती हैं। और सामाजिक इतिहास की विषय – वस्तु ही अंततोगत्वा मानव विकास के युगों का वर्णन करना होता है।

तो फिर , इस सम्बन्ध में अब तक विश्व में प्राप्त दो ही दृष्टिकोण उपलब्ध हैं।  1  – द्वंदात्मक और ऐतिहासिक भौतिकवाद और 2  – दूसरा श्री अरविन्द दर्शन में मानव विकास की धारणा, जिनमे पहिला कार्ल मार्क्स का इतिहास का भौतिकवादी दृष्टिकोण है और दूसरा प्राचीन हिन्दू आइडियोलॉजी का क्रियात्मक योग – विज्ञान पर आधारित योगिराज श्री अरविन्द घोष के मानव विकास से सम्बद्ध विचार हैं।

मार्क्स का दृष्टिकोण भौतिकवादी है जो केवल आर्थिक उत्पादन के विकास से सम्बन्ध रखता है , जिसके द्वारा केवल सामाजिक इतिहास में आर्थिक उत्पादन के विकास के युगों की तशरीह की जा सकती है। श्री अरविन्द का दृष्टिकोण आध्यात्मवादी है , जिसके द्वारा हम मानव चेतना के विकास अर्थात मनुष्य के मनुष्यत्व के विकास के युगों को सामाजिक इतिहास में समझ सकते हैं। भारत में बसे मानव समूह के विकास के लिए मार्क्सवाद के मूल विचार को समझना न केवल असंगत होगा बल्कि आवश्यक भी होगा ताकि हम किसी परिणाम पर पहुँच सके क्योंकि मार्क्सवाद भी मनुष्य जाति के आर्थिक विकास का आवश्यक पक्ष है।

3 – ऐतिहासिक भौतिकवाद की  मार्क्सवादी  अवधारणा :

यह संक्षेप में निम्न प्रकार है – मनुष्यजाति , प्रकृति से अपने जीवन संघर्ष के सिलसिले में खेतों कारखानों खानों में प्रकृति से अपने संघर्ष  चलाने के लिए , एक और तो श्रम अस्त्रों का उत्पादन , निर्माण और पुनरुत्पादन जारी रखती है जिससे उसे भोजन की आवश्यकताओं की प्राप्ति होती है और मनुष्यजाति जीवित रहती है – दूसरी तरफ परिवार को किसी रूप में बांध कर वह मनुष्यों का उत्पादन जारी रखती है जिससे मानव नस्ल आगे चलती है और बनी रहती है। प्रकृति के साथ संघर्ष में मनुष्य अकेला अकेला या अलग अलग संघर्ष नहीं करता बल्कि वह समूह बनाकर और परस्पर सहयोग के किसी रिश्ते में बंधकर प्रकृति के विरुद्ध संघर्ष करता है।  अब यह दो प्रकार के उत्पादन सम्बन्ध – आर्थिक और परिवार में पुरुष और स्त्री के बीच के यौन सम्बन्ध – मिलकर ही मनुष्य जाति  की राजनैतिक , आर्थिक और सांस्कृतिक ईमारत क मूल स्ट्रक्चर होता है। जब यह ढांचा बदल जाता है  तो यह बाह्य ईमारत भी बदल जाती है।

अब यह ढाँचा बदलता क्यों है ?

इस पर मार्क्स ने चिंतन और मनन किया।  उनका कहना यह है कि मनुष्य प्रकृति के विरुद्ध अपने संघर्ष में आसानी और विजय पक्की करने के लिए लगातार अपने श्रम – अस्त्रों में सुधार और उन्नति करता रहता है, जिससे मनुष्यजाति की उत्पादक शक्ति में विकास और उन्नति होती रहती है और जिसका स्वतः यह परिणाम होता है कि उसके उत्पादन सम्बन्ध , उसकी उत्पादक शक्तियों की क्षमता से पिछड़  जाते हैं; वह पीछे रह जाते हैं।

मार्क्सवाद के अनुसार सामाजिक – क्रांतियों अथवा मनुष्य जाति की क्रांतियों का यही भौतिक आधार है। उत्पादन सम्बन्ध उत्पादक शक्तियों की क्षमता के अनुकूल होना चाहते हैं, उन्हें शक्तिधारी शासक वर्ग जबरदस्ती कायम रखने की कोशिश करता है, क्योंकि यह उसके स्वार्थों के अनुकूल होते हैं। उन्हें जबर्दस्ती बदला जाता है।  मार्क्सवाद के अनुसार यही क्रांति है , क्योंकि मानव समाज का यह स्ट्रक्चर है।

जब यह बदल जाता है तो इसके ऊपर खड़ी राजनैतिक आर्थिक और सांस्कृतिक ईमारत भी बदल जाती है।  अगर उत्पादन सम्बन्ध नहीं बदले जाते हैं तो समाज की उत्पादन शक्तियों का नाश होने लगता है और उसमे रूकावट और संकट आने लगते हैं।  इसलिए उनका बदलना समाज के हित में होता है और यह मांग समाज की मांग हो जाती है। संक्षेप में , इसे ही मानव इतिहास में भौतिकवाद का नियम अथवा मानव इतिहास में भौतिक वाद की भूमिका कहते हैं।

4 – विकास को कोई रोक नहीं सकता:

जैसे प्रकृति के नियमों को रद्द या मंसूख नहीं किया जा सकता है वह मनुष्य की इच्छा से स्वतंत्र होते हैं, मनुष्य का उन पर कोई वश नहीं चलता, इसी प्रकार क्रांति का यह भौतिकवादी नियम भी मानव इच्छाओं से स्वतंत्र है।  कोई इसे रोक या मंसूख नहीं कर सकता है।

मार्क्सवाद इसकी व्याख्या में दो तर्क प्रस्तुत करता है : मनुष्य इसलिए इस क्रान्तिकारी प्रक्रिया को नहीं रोक सकता  क्योकि वह अपने श्रम – अस्त्रों में सुधार करते हुए इस बात पर ध्यान नहीं देते – या इसलिए नहीं रूक जाते – कि इसका परिणाम उत्पादन पद्धति में एक दूरगामी परिवर्तन हो जाएगा जिस से सारी उत्पादन पद्धति को बदलना ही अनिवार्य हो जाएगा।  उनकी निगाह इतनी दूर तक नहीं जाती; वह तो प्रकृति से अपने संघर्ष को आसान बनाना चाहते हैं; उनकी निगाह तो अपनी फौरी लाभ पर होती है।

जब सामंत ट्रैक्टरों से जुताई आरम्भ करता है अथवा मशीने और कारखाने खड़ा करता है तो वह इतनी दूर तक नहीं सोचता है कि इन कार्यों से समाज में सामाजिक शक्तियों की एक नई गिरोहबंदी उत्पन्न हो जाएगी जो सामंतवाद को ही नष्ट कर देगी। नहीं, वह तो अधिक पैदावार और अधिक लाभ उठाना चाहता है। इस प्रक्रिया पर न तो पाबंदी लगाईं जा सकती है और ना ही मनुष्य जाति नए मनचाहे उत्पादन सम्बन्ध स्थापित करने में स्वतंत्र है क्योंकि मनुष्यजाति की हर पीढ़ी हर समय किन्ही न किन्ही उत्पादन संबंधों में अपने आप को बंधा हुआ पाती है जो उसे अपने पूर्वजों से विरासत में मिलते है। वह तो बस उन्हें (समाज व्यवस्था मे विकास करके) ही बदल सकती है।

ऐसा नहीं होता है कि कोई पीढ़ी रहती तो हो सामंतवाद अथवा दास व्यवस्था के उत्पादन संबंधों में और वह कूद कर पहुँच जाए एक दम समाजवादी उत्पादन संबंधों में; नहीं उसे क्रमशः विकास में पूँजीवाद का प्रोसेस पूरा करना होगा – तभी वह समाजवाद में प्रवेश पा सकेगी।

वास्तव में इतिहास का यह भौतिकवादी नियम कार्ल मार्क्स का मुख्य आविष्कार है। इसके अतिरिक्त उन्होंने अर्थ शास्त्र में भी एक क्रांतिकारी खोज की है और वह है उनका “मूल्य का सिद्धांत ” जिसके द्वारा वह पूंजीवादी शोषण की व्याख्या करते हैं।  तीसरी विशिष्ट बात उनका राजसत्ता का सिद्धांत है।  बस इन्ही तीन बातों के ऊपर मार्क्सवाद की ईमारत खड़ी है। इस द्रष्टिकोण से  मार्क्सवाद की संक्षिप्त परिभाषा यह होगी : “मार्क्सवाद , मानव नस्ल पर प्राणी विकास के नियमों को लागू करने का प्रयास है”।

इसी प्रकार का प्रयास जर्मन विचारक नित्ज़े ने भी किया था जिसको क्रियात्मक रूप उसके शिष्य हिटलर ने जर्मनों को मनुष्यजाति में योग्यतम की जाति मान कर किया। लेकिन वह इतनी दूर तक नही गए जितनी दूर तक कार्ल मार्क्स गए।

5 – मानव विकास की मार्क्सवादी  अवधारणा अधूरी :

अब प्रश्न यह उत्पन्न होता है कि क्या सचमुच मार्क्सवाद मनुष्यजाति के पूर्ण विकास का ऐसा सिद्धांत है जो हमारे देश के (मार्क्सवादी )  क्रांतिकारियों का वेद बन जाये ? मेरी राय में (जो मेरे जीवन भर के अध्ययन , मनन और अनुभव पर आधारित है ) मार्क्सवाद में एक आंशिक सत्य होने के बावजूद वह मानव विकास का सिद्धांत नहीं है। उसके निष्कर्ष भ्रामक हैं और वह जितने तर्क संगत हैं उतने ही खतरनाक असत्य हैं।

हमारे देश के  क्रांतिकारियों को आँख खोलकर  समझना चाहिए , आँख मूँद कर इन सिद्धांतों का अनुयाई नहीं बन जाना चाहिए। संसार या भारत की वर्तमान समस्याओं का समाधान केवल इसके द्वारा नहीं हो सकता।

मार्क्सवाद केवल आर्थिक विकास का सिद्धांत है और यह भी मानव विकास का एक पक्ष है। इस बात को समझने के लिए मुख्य शर्त यह है कि क्रांति के सम्बन्ध में हमारा द्रष्टिकोण सही हो।

6 – परिवर्तन और क्रांति की सही अवधारणा  :

क्रांति किसे कहते है ?

चाहे हम मार्क्सवादी तर्क से समझें अथवा हेगेल के तर्क से समझें अथवा सामान्य मनुष्य की बुद्धि से भी समझें : सुधारवाद के विरुद्ध क्रांति बुनियादी परिवर्तनों को कहते हैं – मार्क्सवाद “परिमाणात्मक परिवर्तनों” को क्रमशः विकास की संज्ञा देता है और “गुणात्मक परिवर्तनों” को क्रांति का नाम देता है।

अब प्रश्न यह है कि सामंतवाद से पूँजीवाद और पूँजीवाद से समाजवाद में मनुष्य में – अथवा मनुष्य के समाज में – क्या गुणात्मक अंतर है ? “मानव – प्रकृति” में क्या गुणात्मक अंतर पड़ा है ?

ठीक है , अब्राहम लिंकन वाली अमेरिकी क्रांति में मानव स्वाधीनता के सिद्धांतों की स्थापना की गयी , फ़्रांसिसी क्रांतियों में मनुष्य के मूल अधिकारों का चार्टर पास किया गया। यह और भी अच्छी बात हो गयी और रूसी और चीनी क्रांतियों में आगे बढ़ कर (समाज मे) पूंजीवादियों के हाथ से सत्ता भी छीन ली गयी जो समाज का शोषण और दोहन करते थे। यह और भी बढ़िया बात हो गयी।

लेकिन प्रश्न तो यह है कि इस से मनुष्य में क्या परिवर्तन आया ? यह परिवर्तन तो केवल “परिमाणात्मक परिवर्तन” है : हम गिनती करके और हिसाब लगा कर इस परिवर्तन को समझ सकते हैं:  सामंतवाद में इतनी पैदावार होती थी , इतनी सड़कें बनी , पूँजीवाद में इतनी पैदावार होती है , इतनी सड़कें बनी , इतने स्कूल खुल गए , इतने लड़के पढ़ने लगे , यहाँ तक कि इतनी किताबे छपी , इतनी स्याही खर्च हुई आदि आदि।

अब यह सारे परिवर्तन तो केवल (समाज मे) “परिमाणात्मक” हैं , न कि “मनुष्य में गुणात्मक” हैं। गुणात्मक परिवर्तन तो ऐसे होता है जैसे प्रकृति , प्रकृति से वृक्ष , वृक्ष से पशु और पशु से मानव और मानव से देवता – यदि मार्क्सवाद को मानव विकास का सिद्धांत बनना था तो उसे कोई ऐसा फार्मूला भी खोजना था जो मनुष्य का परिवर्तन देवता में होने का मार्ग सूझता हो।

यह क्रांतियों का अनवरत प्रवाह ही इस बात की ओर संकेत करता है कि वास्तव में मनुष्य जाति अपने सही विकास मार्ग से भटक गयी है और उसने बाहय क्रांतियों का गलत मार्ग पकड़ लिया है।  एक क्रांति समाप्त नहीं होती दूसरी क्रांति आ जाती है।  आखिर पहले तो इतिहास में इतनी जल्दी जल्दी क्रांतियां नहीं होती थे।  क्या अब मनुष्य पहले से अधिक क्रांतिकारी हो गया कि एक क्रांति से उसका मन नहीं भरता, फिर क्रांति करने लगता है ?

मनुष्य अपने स्वभाव से क्रांतिकारी नहीं है।  उसे अनिश्चित भविष्य से भय लगता है।  वह तो स्वभाव से रूढ़ीवादी है।  फिर वह इन शताब्दियों में इतना क्रांतिकारी क्यों हो गया कि उसे एक क्रांति से संतोष ही नहीं होता ? उसका क्रांतियों से जी ही नहीं भरता।  एक क्रांति पूरी होते न होते अपने मौलिक स्वभाव के विपरीत वह दूसरी क्रांति की तैयारी करने लगता है।

इसका कारण यह है कि उसके आधार में एक बेचैनी व्यापी हुई है जो मनुष्य और उसके संसार की वर्तमान व्यवस्था से उसे असन्तुष्ट बनाये हुए है।  कोई चीज परिपक्व होकर उसके आधार में से बाहर आना चाहती है जिससे उसकी यह बेचैनी दूर हो जाएगी । लेकिन अपने से बाहर प्राप्ति का मार्ग उसने भटक कर गलत पकड़ लिया है।  परिवर्तन उसके अंदर होना है , वह उस परिवर्तन की खोज बाहर कर रहा है, इसलिए उसे तसल्ली नहीं होती और वह आये दिन नयी नयी क्रांतियां करने में लगा हुआ है।

7 – सामाजिक -विकास का सिद्धांत मानव -विकास  का सिद्धांत नहीं हो सकता !

इसलिए मानव के द्रष्टिकोण से यह निर्विवाद कह सकते हैं कि सामाजिक व्यवस्थाओं में परिवर्तन , जिसका मूल सूत्र कार्ल मार्क्स ने उत्पादन सम्बन्धों में परिवर्तन को करार दिया है , कभी भी मानव विकास की क्रांतियां नहीं कहला सकेंगे।

मानव विकास की क्रांतियां तो मनुष्य में परिवर्तन से ही जानी – मानी और पहचानी जाएँगी न कि बाहरी व्यवस्था में शक्ति द्वारा परिवर्तन करने व शक्ति द्वारा उसे स्थापित रखने से उसे मनुष्य जाति में मौलिक क्रांति मान लिया जायेगा। वास्तविकता यह है कि कार्ल मार्क्स जिन परिवर्तनों को मानवजाति की बुनियादी क्रांतियां मानता है वह केवल मानव समाज के आर्थिक जीवन के परिवर्तन हैं।

लेकिन आर्थिक जीवन तो मानव जीवन का केवल एक पक्ष है।  उसके जीवन का दूसरा महत्वपूर्ण पक्ष उसकी चेतना के विकास का पक्ष है जिस पर कि मनुष्यजाति के विकास का असिल मूल्य और महत्त्व निर्भर करता है।  मानवी विकास की ऊंचाई और महत्त्व इस पर निर्भर नहीं करता कि वह आकाश चुम्बी अट्टालिकाओं में निवास करता है अथवा वह आकाश में उड़ता है – वह रेशमी कोट पतलून पहनता है और वह भटों , पेड़ों अथवा झोपड़ी में निवास नहीं करता।

नहीं , चाहे समाज की भौतिक आवश्यकताओं के विकास का यह पक्ष हो लेकिन सचमुच ही यह मनुष्यत्व के विकास का पक्ष नहीं है।  यह संभव है कि कोई समाज हवाई जहाजों में सफर करता है और महलों में रहता है – लेकिन वह पशुओं से ऊपर अपनी आदतों में न हो – जबकि कोई समाज झोपड़ियों में निवास करता हो और (वृक्षों के ) बक्कल से अपने शरीर को ढांपते हों लेकिन अपने स्वभाव में वह देवतुल्य मनुष्य हों।  लेकिन मानवजाति की क्रांति के इस अंतर को तभी समझा जा सकता है जबकि क्रांति के सम्बन्ध में हमारा द्रष्टिकोण बुनियादी क्रांति का हो।

8 – मानव -विकास में मार्क्सवादी भ्रान्ति की जड़ :

मार्क्सवाद में इस भ्रान्ति की जड़ें कहाँ है ?

यह बड़ा महत्वपूर्ण प्रश्न है लेकिन इसका उत्तर बहुत छोटा सा है।  मार्क्सवाद में मानवी विकास के सम्बन्ध में इस भ्रान्ति का कारण यह है कि मनुष्य के सम्बन्ध में उसका द्रष्टिकोण ही भ्रांतिपूर्ण है जिसकी वजह से मानव विकास का सारा मसला ही भ्रांतिपूर्ण बन गया है।  देखिये उसकी मनुष्य की परिभाषा :

“मनुष्य श्रम अस्त्रों का निर्माण करने वाला जन्तु है। ” (द्वंदात्मक और ऐतिहासिक भौतिकवाद : लेखक स्टालिन )

स्टालिन ने इसे फ्रैंकलिन वाली परिभाषा कहा है।  मार्क्सवाद इसे पूर्ण और वैज्ञानिक परिभाषा स्वीकार करता है।  लेकिन यह केवल मनुष्य की अर्थ शास्त्रीय परिभाषा है – यह अर्थ शास्त्रीय द्रष्टिकोण से सही परिभाषा होने के बावजूद एक अधूरी – अपूर्ण – परिभाषा है।  क्योंकि आर्थिक जीवन तो मानवी जीवन का केवल एक अंग है , न कि पूरा मानवीय जीवन है। इस प्रश्न से भी दिलचस्प प्रश्न यह है कि क्यों मार्क्स या मार्क्सवाद ने , अकेले आर्थिक जीवन को ही कुल मानवीय जीव समझ लिया है जिसकी वजह से , मनुष्य के सम्बन्ध में अर्थ शास्त्रीय द्रष्टिकोण उनका अपना इन्सानी द्रष्टिकोण बन गया ?

इसका संक्षिप्त सा उत्तर तो यह भी है कि स्वयं कार्ल मार्क्स एक अर्थ शास्त्री थे और उनकी मुख्य रचना “कैपिटल ” एक अर्थ शास्त्र ही है। इसलिए स्वाभाविक ही था कि वह मनुष्य की परिभाषा अपने द्रष्टिकोण अर्थ शास्त्रीय ही करते। परिभाषा पर यह लम्बी बहस इसीलिए महत्वपूर्ण है क्योंकि मार्क्स के मूल सिद्धांत – जिसे वैज्ञानिक द्रष्टिकोण माना जाता है – ऐतिहासिक भौतिकवाद की सारी इमारत मनुष्य की इस परिभाषा पर कायम है।  इस सिद्धांत में मानव विकास का अग्रेतर तत्व , श्रम अस्त्रों में सुधर और उन्नति है।  क्योंकि आखिरकार इसीलिए तो उत्पादक शक्तियों से उत्पादन सम्बन्ध पीछे रह जाते हैं और उत्पादक शक्तियों के अनुकूल उत्पादन संबंधों को बदलने के लिए ही तो क्रांति आती है। और सबकी सब समाज व्यवस्थाएं उत्पादन संबंधों पर आधारित होती है।  इत्यादि इत्यादि।

9 – परिभाषा की गलती और परिभाषाओं की सीमा  :

लेकिन परिभाषएँ हमेशा ही अधूरी और महदूद होती हैं।  और उनका महदूद होना अनिवार्य है – क्योंकि मानवीय चेतना , अर्थात उसका मन , किसी भी विषय को परिभाषा के ढाँचे में ही ग्रहण कर सकता है और एक दूसरे के विरोध में रख कर ही समझ और अनुभव के सकता है। इसलिए परिभाषाओं का महदूद , अधूरा और अपर्याप्त होना अनिवार्य है।  इसलिए परिभाषाएँ , किसी भी विषय अथवा वस्तु की ऐसी विशेषता पर आधारित होनी चाहिए जो विशेषता उस वस्तु की कुल विशेषताओं को नियमित करती हो ; तभी परिभाषा किसी विषय वस्तु की रूप रेखा का व्यापक प्रतिनिधित्व कर सकती है।

मनुष्य के सब द्रष्टिकोण अन्तोतगत्वा उसके विश्व सम्बन्धी द्रष्टिकोण से प्रभावित रहते हैं।  और आखिरकार सारे विश्व सम्बन्धी द्रष्टिकोण दो ही श्रेणियों में विभाजित हो जाते हैं : 1 – या तो यह द्रष्टिकोण भौतिकवादी हैं ; अथवा 2 – यह द्रष्टिकोण अध्यात्मवादी हैं , जिन्हे मार्क्सवाद आदर्शवादी की संज्ञा देता है – क्योंकि संसार के तो दो ही पक्ष हैं : भौतिक ात्वा सचेतन जीवन; इसलिए दो ही द्रष्टिकोण संभव भी हैं।

परिभाषा की अपर्याप्तता का कारण यह भी है कि एक सचेतन जीवन की परिभाषा उसकी एक जड़ भौतिक विशेषता पर आधारित की गई है कि मनुष्य श्रम अस्त्रों का निर्माण करने वाला जंतु है।  यह परिभाषा गलत नहीं है , लेकिन मनुष्य में पशुओं से भिन्न और भी विशेषताएं है और उनके आधार पर उसकी एक से अधिक परिभाषाएँ हो सकती हैं। वह कला और संस्कृति का निर्माण करता है ; वह भावना – प्रधान प्राणी है ; वह हँसता है ; गाता और नृत्य करता है और कोई पशु यह काम नहीं करते।  वह धार्मिक भी है और कोई पशु भगवान् की पूजा अर्चना नहीं करता।  इन विशेषताओं के आधार पर तो मानव जाति के विकास एक से अधिक विज्ञान निर्मित हो जाएँ।

इसलिए मनुष्य की परिभाषा उसकी किसी ऐसी विशेषता पर आधारित होनी चाहिए जो उसकी सारी  विशेषताओं को नियमित करती हो अथवा जो उसकी सारी विशेषताओं की “कारण – भूत ” विशेषता हो; और उस “कारण भूत ” विशेषता के आधार पर ही उसके विकास की समस्याओं पर विचार किया जाना चाहिए।  यदि हम एक प्रश्न उठाएँ तो इस परिभाषा का निक्कमापन अपने आप स्पस्ट हो जायेगा।

10 – मार्क्सबाद में ‘मनुष्य ” की परिभाषा गलत :

मनुष्य जन्तु ही क्यों श्रम अस्त्रों का निर्माण करता है अथवा मनुष्य जन्तु ही क्यों धार्मिक है ? क्यों भावना प्रधान है ? क्यों हँसता , नाचता , गाता है ? क्यों कला और संस्कृति का निर्माण करता है ? और कोई पशु यह सब काम नहीं करते ? इन सारी बातों का एक ही उत्तर है : क्योंकि मनुष्य मन-धारी जन्तु है, वह चिन्तनशील पशु है इसलिए उसमे यह सारी विशेषताएँ हैं जो और किसी दुसरे प्राणी में नहीं हैं ; क्योंकि उन्होंने अपने  क्रम में मनोमय चेतना की उपलब्धि नहीं की है।

इसलिए मनुष्य की सबसे अधिक वैज्ञानिक परिभाषा यही है जो उसके “मानव ” नाम में अन्तर्निहित है।  “मानव ” अर्थात मनधारी पशु ; क्योंकि वह चिन्तनशील है इसीलिए वह श्रम अस्त्रों का निर्माण करता और उनमे सुधार और उन्नति करता रहता है।  इसीलिए वह भावना प्रधान है , वह नाचता , हँसता  गाता है; उसके पास भूत और भविष्य को मिलाने वाली चेतना शक्ति है ; इसलिए उसने अपने भूतकालीन अनुभवों को भविष्यकालीन संभावनाओं से जोड़ा ; प्रागैतिहासिक काल में वह पत्थर और हड्डी के औजार  थे और इसी शक्ति के आधार पर वह श्रम अस्त्रों में सुधार और उन्नति करता है।

इसलिए मानव विकास का अग्रेसर तत्व श्रम अस्त्रों में सुधार उन्नति नहीं है बल्कि मानव विचार शक्ति है जिसके आधार पर वह श्रम अस्त्रों में सुधार और उन्नति करता है। 

11 – मनुष्य की विकास क्रम  में क्या  स्तिथि  है ?

इस द्रष्टिकोण से यदि मानव विकास की समस्याओं पर विचार किया जाये तो मानव विकास के वैज्ञानिक सिद्धांत प्राचीन वर्णाश्रम धार्मिक समाज व्यवस्था का अनुमोदन करते हैं।  उस व्यवस्था का वर्ग – विश्लेषण श्रम अस्त्रों अथवा  श्रम शक्तियों को आधार मान कर नहीं किया गया जैसा कि मार्क्सवाद करता है , बल्कि मन को आधार मानकर मन: शक्तियों के आधार पर किया गया है।  “जन्मना जायते शूद्र: संस्कारात द्विज:; रक्षाणि क्षत्रिय: ; ब्रह्म जानाति ब्राह्मण:”

मानवजाति अपने विकास क्रम में पशु  और देवता के बीच की मंजिल है।  इसलिए प्राचीन ऋषियों ने मन शक्तियों को पशुओं का प्रतीक मान कर अलग अलग वर्णों की विशेषताओं की व्याख्या की है।  शूद्र के पास घोडा है लेकिन कोई देवता नहीं है , वैश्य के पास गाय है और एक देवता भी है ; क्षत्रिय के पास भेड़ है और एक देवता भी है , ब्राह्मण के पास बकरा पशु है और देवता भी है।  ऋषियों के इस प्रतीकात्मक वर्णन में वास्तव में मनुष्य जाति के क्रमश: विकास का विचार अन्तर्निहित है।

उपनिषद के इस विचार का अर्थ वह नहीं है जो हमारे मार्क्सवादी नेता श्री अमृत पाद डांगे ने अपने इतिहास में हमें समझाने की कोशिश की है।  उनका कहना है कि शूद्र के पास इसीलिए केवल पशु है और उसके पास कोई देवता नहीं है जबकि दूसरे वर्णों के पास पशु के साथ साथ एक एक देवता भी है क्योंकि शूद्र गुलाम है।  (आदिम साम्यवादी व्यवस्था से दास व्यवस्था तक का भारत का इतिहास – लेखक अमृत पाद डांगे) डांगे का यह अनुमान ठीक नहीं है।

भौतिकवादी द्रष्टिकोण से शूद्र के पास देवता न रहने से उसको कौन सा नुकसान पहुँच गया ? उसके पास पशु तो सबसे कीमती है ; उसके पास घोड़ा है जबकि क्षत्रिय और ब्राह्मण जैसे उच्च वर्णों के पास तो नगण्य मूल्य के ही पशु हैं।  भेड़ और और बकरा भला शासक और शोषक वर्गों ने अपने लिए यह कम कीमती पशु क्यों रक्खे और एक कीमती पशु घोडा शूद्र को दे दिया ? और देवता ! देवता तो एक भौतिकवादी द्रष्टिकोण से एक काल्पनिक अंधविश्वास है , इस से शूद्र को कोई हानि नहीं पहुँचती।

वास्तव में उपनिषद के इस विचार का वह अर्थ नहीं है जो डांगे साहब हमें समझाना चाहते हैं।  देवता और पशुओं के साथ साथ , अलग अलग के पास होने का अर्थ तो यह है कि मनुष्य जाति अपने विकास क्रम में देवता और पशुओं के बीच की मंजिल है और उन वर्णों का मन  – जिस मन के आधार पर ही उन मानव वर्गों का विश्लेषण किया गया है – पर ही क्रम विकास की क्रिया – प्रतिक्रिया चालू है।  इसलिए मानसिक विशेषताओं के आधार पर पशुत्व और देवता को साथ साथ बतलाया गया है।  शूद्र के पास घोड़े से सामान मन तो है लेकिन उसमे देवता कोई नहीं है ; घोडा हमेशा शक्ति का प्रतीक माना जाता रहा है ; आज भी शक्ति की माप हॉर्स पावर में करते हैं।

इसका अर्थ यह हुआ कि शूद्र के पास मन: शक्ति तो है लेकिन देवत्व नहीं है , उसका मन घोड़े के समान बेलगाम है , सधा हुआ नहीं है।  वैश्य का मन गऊ के जैसा है ; गऊ धन की प्रतीक है और उसके पास देवता भी है।  क्षत्रिय का मन भेड़ के समान पीछे चलने वाला है , आँख मूँद कर पीछे चलने की प्रतीक भेड़ है।  अर्थात क्षत्रिय का मन उसके दिव्य मन से अनुशासित है।  यह वैश्य मन से ऊँची मंजिल है।  ब्राह्मण के पास बकरे के समान मन है , बकरा बलि पशु का प्रतीक है अर्थात ब्राह्मण वह है जिसने अपने देवत्व के लिए अपने मन को होम दिया है।  अर्थात जिसने उसकी सारी पशु इच्छाओं को समाप्त कर दिया है।  फिर वह मन मानव मन नहीं रह जाता , उसका पशुत्व समाप्त हो जाता है और  देवता हो जाता है।  अब देखिये क्रमश: विकास में शूद्र के पास पशु मन है ,  देवत्व नहीं है।  ब्राह्मण का मन बकरा बलि ,  देवत्व की भेंट है।

12 – पुनर्जन्म, विकास क्रम  और समाज व्यवस्था :

वर्णाश्रम समाज व्यवस्था जन्मान्तर विकास के मान्य सिद्धांत पर आध्हरित थी।  जन्मान्तर विकास के सिद्धांत को किसी विज्ञान की सहायता की आवश्यकता नहीं है , चाहे उसे कोई मानता हो या न मानता हो ; यह तो विधि का विधान है अथवा आत्मा के विकास का स्वाभाविक नियम है , यह ऐसे ही होता है।

लेकिन बात ऐसी नहीं है कि इसका कोई विज्ञान नहीं है।  नहीं , इसके सिद्धांत और मान्यताएँ क्रियात्मक योग विज्ञान पर आधारित हैं।  केवल योग साधना के बल पर ही इन सत्यों की परीक्षा की जा सकती है।

और इसीलिए प्राचीन काल में भारत में इस बात का प्रयास किया गया था कि एक ऐसी वैज्ञानिक समाज व्यवस्था स्थापित की जाये जो मानव विकास की अवधी को छोटा किया  जा सके।  इस प्रयास का परिणाम ही वर्णाश्रम धर्म व्यवस्था थी।

सामाजिक रूप में यह प्रयास असफल हो गया।  व्यक्तिगत रूप से तो  बहुत सी आत्माएं जीवन  मुक्त हो कर देवत्व में विकसित हो गई और इस प्रकार प्रकृति के स्थूल भौतिक बंधनों अथवा भौतिक प्रकृति के नियमों की पकड़ से बाहर हो गई लेकिन सारी मनुष्य जाति को अभी तक भी देवत्व प्राप्ति नहीं हुई है।

13 – श्री अरविन्द घोष “मानवी विकास” के सर्वोत्तम शिक्षक  :

हमारी क्रांतिकारी पार्टी के साथी और नेता श्री अरविन्द घोष जो अलीपुर केस के  मुख्य अभियुक्तों में से एक थे उन्होंने इस दिशा में सत्य जानने का प्रयास किया था , और वह अपने मिशन में सफल भी हुए थे।  सच तो यह है कि वह मानव विकास के भारतीय परम्परागत मार्ग के सच्चे अनुयायी थे और उन्होंने वही योग और तपस्या का मार्ग अपनाया जो मानव विकास का सच्चा मार्ग है और जो भारतीय स्वाभाव के अनुकूल और परम्परागत है।

और वह अपनी योग साधना के बल पर यह भविष्यवाणी करने में सफल हो गए कि मनुष्य जाति में अब मनोमय विकास की वह मंजिल आ गई है , जिसमे मनुष्यजाति में एक क्रांतिकारी अथवा “गुणात्मक ” परिवर्तन हो जाएगा कि उसकी मानवी चेतना बदल कर अतिमानवी अथवा देव चेतना हो जाएगी , जिस से उसके वर्तमान जीवन की सभी समस्याओं का समाधान हो जाएगा।

जिस प्रकार की भूत काल में पशु चेतना में क्रांति होकर गुणात्मक रूप में मानवी चेतना का श्रीगणेश हो गया था।  और मनुष्य में , पशु जीवन की समस्याओं का समाधान हो गया था।

14 – मानवीय विकास  के लिए लक्ष्य -परक समाज व्यवस्था : 

मानव विकास सम्बन्धी मेरे विचार श्री अरविन्द के मानव विकास से सम्बंधित विचारों पर ही आधारित हैं।  आगे मैं संक्षेप में वर्णाश्रम के विचार की वैज्ञानिकता पर प्रकाश इन्ही विचारों की रोशनी में डालूंगा।

संक्षेप में , विश्व का वह मूल तत्व , जिससे कि सारे विश्व  रचना हुई है, उसके तीन पक्ष हैं।  चेतना की उच्चतम मंजिल में योगियों को वह तीन पक्ष नीचे की नन्जिलों के सामान परस्पर विरोधी और भिन्न दिखाई नहीं पड़ते हैं बल्कि वहां वह एक ही सदवस्तु के तीन पक्ष हैं।  सत्ता , चेतना और आनन्द , चेतना की अतिमानस की स्टेज में सत्ता , सत्ता से अधिक चेतना अनुभव होती है और चेतना , चेतना से अधिक आनन्द है।

भौतिक जगत में ऊपर लिखित परम तत्व के यह तीन पक्ष , तीन मुख्य प्रवत्तियों के रूप में अपने मूल स्वाभाव की पुनः प्राप्ति के लिए विकास में संघर्ष रत्त है।  इन तीन प्रवत्तियों के अतिरिक्त , अर्थात सत्ता , चेतना , आनन्द की प्रवत्तियों के अतिरिक्त एक चौथी अवस्था और है जहाँ  प्रवत्ति स्पस्ट नहीं है जिसे हम किसी भी प्रवित्ति की तरफ बढ़ने से पहली अवस्था अथवा कच्चा माल कह सकते हैं।

15 – चेतना का   “निम्न” स्तर  से “उच्च ” स्तर  की ओर विकास :

संक्षेप में , परम तत्व की यह तीन प्रवत्तियाँ ही मनुष्य जाति में वैश्य , क्षत्रिय और ब्राह्मण प्रवत्तियाँ कहलाती हैं और मानवी चेतना की वह चौथी अवस्था जिसमे प्रवत्ति का लक्षण भी स्पस्ट नहीं है , इसीलिए जिसे कच्चा माल भी कह सकते हैं , उसे ही शूद्र अवस्था कह सकते हैं।  ध्यान रहे वेद जो इस विषय का विज्ञान है , वर्णों को जन्मानुसार  मानता , बल्कि गुण कर्मानुसार मानता है: यथा – जन्मना जायते शूद्र: संस्करात द्विज: रक्षाणित क्षत्रिय: ब्रह्म जानाति ब्राह्मण:।

यह वैश्य , क्षत्रिय और ब्राह्मण प्रवत्तियाँ केवल मनुष्यजाति में ही नहीं हैं।  बल्कि सचेतन जीवन के हरेक क्षेत्र में यह तीनों रूझनात द्रष्टिगोचर होते हैं।  पशुओं में भी , पक्षियों में भी और किसी कदर वनस्पतियों में भी इन्हे समझा जा सकता है।  वैश्य प्रवत्ति संचय: की है , यह सचेतन जीवन की स्वाभाविक प्रवत्ति है।  हम जानते हैं कि मनुष्य ही नहीं , बहुत सारी कीट जातियाँ भी खोराक का संचय: करती हैं जो मुसीबत में उनकी प्राण रक्षा में काम आता है , जैसे दीमक , चींटी और मधुमक्खी के जमाखोरी के उदाहरण हैं।  ऊँट है , उसकी कोहान में चर्बी जमा हो जाती है जो खोराक न मिलने की अवस्था में उसके काम आती है।  पक्षी अपने पोट में दाने जमा कर लेते हैं।  मनुष्य अधिक विकसित प्राणी है , उसमे यह प्रवत्ति वैश्य का रूप धारण कर लेती है।

इसी प्रकार संतानोत्पत्ति और उसकी रक्षा की प्रवत्ति स्पस्ट ही सचेतन जीवन की स्वाभाविक प्रवत्ति है।  यह सभी पशुओं में भी पाई जाती है।  मानवी जीवन में इसी प्रवत्ति का सुसंस्कारित रूप क्षत्रिय प्रवत्ति है और ब्राह्मण प्रवत्ति अर्थात ज्ञान प्रवत्ति भी स्पस्ट ही है। सेंद्रिय जीवन में ज्ञानेन्द्रियों का विकास इसी प्रवत्ति के संघर्ष रत रहने का परिणाम है , जैसाकि सब जानते हैं।  कीट पतंगों में ढूंढ भाल की प्रवत्ति के कारण ही उनके नाक की जगह बाल उग आता है।

16 –चेतना के स्तर को ऊंचा उठाने  के लिए  मनुष्यों में सामाजिक व्यवस्था :

इसलिए मानवी  जीवन में यह शूद्र , वैश्य , क्षत्रिय , ब्राह्मण वर्णों की धारणा मूलत: क्रमश: विकास की स्वाभाविक प्रवत्तियों की धारणा है जिसका मूल स्रोत मानवी चेतना है जो चेतना को अपनी उच्चतम अवस्था में विकसित हो जाना चाहती है , जिस से सत्ता , चेतना और आनन्द अथवा सच्चिदानंद कहते हैं।

ऋषियों ने इस वर्ण व्यवस्था में आश्रमों की कैद लगाईं थी जो स्वेच्छा से अपने ऊपर लगाया हुआ अनुशासन था और यह आश्रम अनुशासन  दिशा को ठीक रखने के उपाए थे।

इन आश्रमों का संबंध मानव  विकास की एक एक प्रवत्ति से था और मनुष्य की आयु से भी था क्योंकि मानवी  आयु के विभिन्न चरणों में मानवी विकास यह प्रवत्तियाँ सबसे उग्र रूप में प्रकट होती हैं।  बचपन से 25 वर्ष तक ज्ञान प्रवत्ति सबसे प्रबल होती है , इसलिए ब्रहचर्य आश्रम मनुष्य को सबसे अधिक जिज्ञासा बचपन में होती है ; इसलिए सारी शक्तियों का बिना अपव्यय ब्रह्मचारी रह कर ज्ञान प्राप्त करना इस आश्रम का सद -उदेश्य है।  जब ज्ञान प्राप्ति की प्रवत्ति प्रबल है तो गलत ज्ञान भी तो प्राप्त कर सकता है , इसलिए की नियम बंधन है ताकि ज्ञान प्राप्त हो और ठीक ठीक ज्ञान प्राप्त हो।  इसी प्रकार गृहस्थ आश्रम का सम्बन्ध क्षत्रिय प्रवत्ति से है और वानप्रस्थ आश्रम का सम्बन्ध वैश्य प्रवत्ति से और संन्यास आश्रम का सम्बन्ध शूद्र प्रवत्ति से है।

उन आश्रमों में सम्बंधित प्रवत्तियों के समुचित अनुशासन का विधान किया गया है।  उदाहरण के लिए , अधेड़ावस्था में सबसे अधिक लोभ और संचय की प्रवत्ति प्रबल होती है अर्थात इस आयु में हरेक मनुष्य में वैश्य प्रवत्ति उभरती है इसलिए इस आयु में वानप्रस्थ अर्थात घर छोड़ने का विधान है , ताकि इस प्रवत्ति की गलत दिशा पर अंकुश लगाया जा सके।

17 – वर्ण व्यवस्था सार्वभौम व कुदरत में मौजूद है :

इस प्रकार वर्णाश्रम धर्म व्यवस्था मानव विकास के एक वैज्ञानिक विचार पर आधारित है।  वैसे यह इतनी स्वाभाविक प्रक्रिया कि इसकी पुस्त पर किसी विचार या प्रचार की आवश्यकता नहीं है।  हरेक देश में यह स्वाभाविक वर्ण व्यवस्था स्वाभाविक ही मौजूद रहेंगें चाहे उनका विधान हो या न हो , चाहे वह हिन्दू न होकर मुस्लमान , ईसाई कुछ भी क्यों न हो।

क्योंकि यह तो सचेतन जीवन की मूलभूत प्रवत्तियाँ हैं और वैज्ञानिक इसलिए है कि क्योंकि वर्ण , जातियां प्रजातियां , पक्षों और रोजगार पर आधारित हैं, जिन्हें वह अपने जन्मजात गुणों के आधार पर करती हैं।  इसलिए नया जन्म ग्रहण करने वाले जीव आत्मा के लिए ऐसी परिस्तिथि मुहैया हो जाती हैं जो उसके तदानुकूल विकास को आगे बढाती है।

संक्षेप में , वर्ण जाति प्रजाति विकास के साँचें हैं , जिनमे जन्मान्तर विकास के द्वारा बार बार आत्मा को मरना होता है और जन्मान्तर में यह विकास आगे बढ़ता रहता है।  क्योंकि एक जन्म में तो किसी एक प्रवत्ति का विकास पूर्ण नहीं हो सकता।

18 – मार्क्सवाद कुदरती व्यवस्था को ऐतिहासिक भौतिकवाद का नाम देता है :

इसके सामान्तर मार्क्सवाद का ऐतिहासिक भौतिकवाद का सिद्धांत है और वह अपने आप में इसलिए वैज्ञानिक सिद्धांत कहा जाता है क्योंकि उस सिद्धान्त के अनुसार मानव इतिहास में समाज व्यवस्थाओं की क्रमश: स्टेज निर्धारित की जा सकती है : यथा आदिम साम्यवादी उत्पादन व्यवस्था , दास , सामन्ती  और पूंजीवादी व्यवस्थाएँ और अंत में फिर ऊँची मंजिल की पुन: समाज वादी या साम्यवादी व्यवस्था।

लेकिन वास्तव में यह मार्क्सवादियों की क्रांति है जो उनके विशिष्ठ आर्थिक द्रष्टिकोण के कारण उन्हें ऐसा दिखाई पड़ता है।  इतिहास के यह युग इन्ही वर्ण प्रवत्तियों के विकास के युग हैं।  व्यक्ति और समाज के परस्पर सम्बन्ध से इसे समझा जा सकता है।

19 – कुदरत में “छोटे ” और “बड़े ” पैमाने पर “एक ही प्रक्रिया ” दोहराई  जाती है :

व्यक्ति और समाज का परस्पर वही सम्बन्ध है जो व्यष्टि और समष्टि का होता है।  व्यष्टि और समष्टि का परस्पर सम्बन्ध संक्षिप्त और विस्तारित का होता है। व्यष्टि में जो कुछ संक्षेप में छोटे पैमाने पर होता है समष्टि में वही कुछ विस्तारपूर्वक बड़े पैमाने पर होता है।

दोनों में नियम तो एक ही काम करता है।  व्यष्टि , समष्टि का ही तो विस्तारित रूप है।  परमाणु की रचना वैसी ही है जैसी कि सौर नांदल की है और परमाणु की आतंरिक प्रक्रिया भी वही है जो सौर नांदल की है।  जैसे सौर मंडल में ग्रह उपग्रह सूर्य का चक्कर लगाते हैं वैसे ही परमाणु में प्रोटोन का चक्कर इलेक्ट्रान लगाते हैं।  इसी प्रकार शरीर का एक सेल शरीर रचना का संक्षिप्त रूप में प्रतिनिधित्व करता है और इसी प्रकार मनुष्य की आयु के विभिन्न चरण संक्षिप्त रूप में मानवी इतिहास के विभिन्न युगों का संक्षेप में आभास प्रस्तुत करते हैं क्योंकि व्यक्ति , मनुष्य अपनी जाति का प्रतिनिधि है उसकी जाति के इतिहास में विस्तारपूर्वक वही कुछ होना है जो संक्षेप में उस व्यक्ति के जीवन में होता है।

यदि उसके जीवन की चार स्टेज हैं तो उसकी जाति के जीवन की भी चार ही स्टेज होनी हैं। इसलिए जिन्हे मार्क्सवाद दास व्यवस्था सामंती व्यवस्था और पूंजीवादी व्यवस्था के युग मानव इतिहास में स्थापित करता है वह ब्राह्मण , क्षत्रिय और वैश्य प्रवत्तियों के विकास के युग हैं।

आदिम साम्यवादी और अंतिम समाजवादी एक प्रवत्ति की दूसरी बार ऊँची मंजिल में पुनरावृत्ति मात्र हैं।  इसे हम शूद्र काल कह सकते हैं , जैसाकि श्री विवेकानंद ने समाजवाद को शूद्र राज की संज्ञा से अभिहित किया था। आदिम साम्यवादी  अंतिम समाजवादी भी मनुष्य जाति की संक्रमण कालीन  है जो एक क्रांति का युग है जिसमे एक नई चेतना का जन्म और पुरानी  परिसमाप्ति होती है।  संक्षेप में ब्राह्मण काल मनुष्यजाति का बचपन है जिसमे  ज्ञान का सब युगों से अधिक विकास हुआ।  जितने प्रश्न विश्व के सम्बन्ध में उस वक्त उठाये गए और उनका समाधान किया गया , फिर कभी नहीं उठाये गए।  यह मानवजाति का बचपन था ; इसमें ज्ञान प्रवत्ति अथवा ब्राह्मण प्रवत्ति  विकास हुआ।  इसे इतिहास में ब्राह्मण काल अथवा पुरोहित काल कहते हैं।

जिसे मार्क्सवाद सामंत काल कहता है , वह असील में क्षत्रिय काल है. यह मनुष्यजाति की जवानी है।  महाकाव्यों की रचना उसी काल में हुई और वैश्य काल , अथवा जिसे मार्क्सवाद पूँजीवाद कहता है , यह मनुष्यजाति की अधेड़ अवस्था है जिसमे लोभ और अर्थ संचय ही मानव जीवन का लक्ष्य हो जाता है।  यह वास्तव में वैश्य प्रवत्ति के विकास का युग है।

और समाजवाद मनुष्यजाति का बुढ़ापा है , जिसमे शूद्र प्रवत्तियों के विकास का होना है और चूँकि शूद्र प्रवत्ति तो एक कच्चा माल होती है इसलिए इसे संक्रमण कालीन युग कह सकते हैं।

यहाँ मानव विकास का चक्र पूरा हो जाता है और इसी युग में विकास की अगली आवृत्ति का आरम्भ हो जाता है।

20 – मानवीय विकास की सही समझ पर आधारित राजनैतिक पार्टी की जरूरत  

मैं अपने राजनैतिक जीवन के कुल अध्ययन , मनन  और चिन्तन से जिसमे  श्री अरविन्द साहित्य का अध्ययन भी शामिल है इस परिणाम पर पहुंचा हूँ कि किसी भी राजनैतिक पार्टी की विजय और सफलता की कुंजी उसका मानव विकास के नियमों का ज्ञान और उस ज्ञान को अपनी राजनैतिक कार्यवाहियों में लागू करना है।  क्योंकि “विकास ” विश्व विधान की स्वाभाविक प्रक्रिया है।  विकास मान तत्वों की विजय और सफलता और ह्रास मान तत्वों की पराजय और असफलता विश्व प्रकृति का नियम है।

इसलिए हर राजनैतिक पार्टी का यही कर्तव्य है कि वह मानव विकास के नियमों का ज्ञान प्राप्त करें। और उन्हें अपनी राजनैतिक कार्यवाहियों में लागू करे और यही उसका राजनैतिक दर्शन हो जाता है।  अब मैं मार्क्सवादी नहीं हूँ लेकिन मार्क्सवाद से मुझे चिढ़ भी नहीं है।  मैं अरविन्द वादी एक आध्यात्मिक कम्युनिस्ट हूँ और मेरा सिद्धांत और विचार मार्क्स और श्री अरविन्द के समन्वय पर  आधारित है।  मेरा अपना कुछ नहीं है जो कुछ है उसका सारा  श्रेय श्री कार्ल मार्क्स फ्रेड्रिक एंगल्स और श्री अरविन्द और श्री अरविन्द की शिष्या श्री माताजी को है।

21 – सत्य के दोनों पक्षों  – भौतिकवाद और अध्यात्मवाद – के समन्वय की जरूरत है :

मार्क्सवाद में मुझे जो कुछ तथ्य पूर्ण जंचा उसे मैंने अपने विचारों में शामिल कर लिया है वह है उसका ऐतिहासिक भौतिकवाद का सिद्धांत – वह वास्तव में मानव क्रांतियों का सिद्धांत है , वह केवल आर्थिक उत्पादन पद्धतियों के क्रमशः विकास का सिद्धांत है।  हम जिस द्रष्टिकोण से किसी विषय का विश्लेषण करते हैं अन्त में उत्तर उसी द्रष्टिकोण के अनुकूल आता है।  संसार को देखने का जैसा हमारा चश्मा होता है वैसा ही हमें संसार दिखाई पड़ता है। मार्क्स का द्रष्टिकोण अर्थ शास्त्रीय द्रष्टिकोण था इसलिए इतिहास में वह आर्थिक विकास की रूप रेखा ज्ञात करने में सफल हो गए।  लेकिन विकास की प्रवत्तियाँ तो तीन हैं।  धर्म , अर्थ  और काम इन तीनों प्रवत्तियों का एक एक वर्ण से सम्बन्ध है।  इनमे से केवल एक प्रवत्ति – अर्थ – के विकास का सिद्धांत मार्क्सवाद है।

22 – मार्क्सवाद से सवाल : बिना वर्ग संघर्ष के आगे विकास कैसे होगा ?

मार्क्सवाद का निष्कर्ष है कि आर्थिक वर्गों के संगर्ष  मानव समाज का विकास होता है।  लेकिन समाजवाद के परिणाम स्वरुप जब आर्थिक वर्ग समाप्त हो जायेंगे तब यह आंतरिक संघर्ष भी समाप्त हो जाएगा , तब विकास कैसे होगा ? क्या विकास रूक जाएगा – क्योंकि विकास की मार्क्सवादी शर्त तो वर्ग संघर्ष है ?

मार्क्स से जब यह सवाल पूछा गया तो उन्होंने यह उत्तर दिया : हर पीढ़ी अपने युग की समस्यायों का समाधान करती है ; आने वाली पीढ़ियां इस प्रश्न का सही उत्तर देने की अवस्था में होंगी।  यह उत्तर नहीं है , उत्तर देने से बचना है।

23 – मानव को विकास मे “गुणात्मक छलांग” जरूरी:

श्री अरविन्द का अतिमानस का विचार इस प्रश्न का सही उत्तर है।  श्री अरविन्द का कथन है कि मानवजाति विकास की चरम परिणीति नहीं है , विकास क्रम तो जारी है , जैसे पशु से मानव का विकास हो गया ऐसे ही मनुष्य से अति “मानव ” अर्थात देव जाति का विकास हो जाएगा और न मार्क्सवाद हमें इस सम्बन्ध में ही कोई नेतृत्व देता है कि पशुओं से मनुष्य का विकास कैसे हो गया ?

इस सम्बन्ध में श्री ऐंगल्स के कुछ विचार उनकी रचना “प्रकृति का द्वंदवाद ” में हैं।  “बन्दर से मनुष्य बनने में श्रम शक्ति की भूमिका ” यह विचार असंतोष जनक है।  क्योंकि बन्दर से मनुष्य में परिवर्तन तो “गुणात्मक” और क्रांतिकारी परिवर्तन है जो क्रांति की शर्त के मुताबिक एक दम – हटात – छलाँग लगा कर होना चाहिए।

श्री ऐंगल्स के कथानुसार वह धीरे धीरे हज़ारों लाखों वर्षों में हुआ।  यह तो “परिणात्मक ” परिवर्तनों का क्रमश: विकास का तरीका है , जबकि वही परिवर्तन गुणात्मक हुआ है। श्री ऐंगल्स के अनुमान से अधिक वैज्ञानिक तो उन धर्म पुराणों की उस कथा पर विश्वास करना है जिसमे मनुष्यों के आदि पूर्वज हज़रत आदम की आँख “ज्ञान वृक्ष का फल” चखने से खुल गई थी, जिसकी वजह से उनका स्वर्ग से निष्कासन और भूमि पर अध: पतन हो गया था।

श्री माताजी के कथानुसार यह ईसाई , यहूदी और मुसलमानों की पुराण कथा प्रतीकात्मक रूपमे उस क्रांतिकारी घटना की तरफ संकेत करती है जिसमे एक दिन , हटात , पशु चेतना का मानव चेतना में गुणात्मक परिवर्तन हो गया था।

24 – चेतना  के  “गुणात्मक ” विकास  का आभास  हिन्दू “दशावतारों ” में :

अपने भौतिकवादी द्रष्टिकोण के कारण मार्क्सवाद की यह भ्रान्ति  कि  परिवर्तनों के क्रमश: विकास को तो क्रांति मानता है लेकिन मनुष्यजाति की असिल क्रांतियां जिनमे उसकी चेतना में गुणात्मक परिवर्तन हुए हैं उन्हें समझने में वह असमर्थ है।  मनुष्यजाति की असिल क्रांतियों की तरफ संकेत अवतारवाद का सिद्धांत करता है।  अवतारवाद का सिद्धांत मानवजाति के विकास का सिद्धांत है ; दशावतार मानवी चेतना की दस गुणात्मक परिवर्तन की क्रांतियों को सूचित करते हैं।

श्री सचिन्द्र सान्याल अपने “बंदी जीवन ” में सन 1915 के क्रांतिकारी प्रयास के सन्दर्भ में एक ऐसे क्रांतिकारी गुट की चर्चा करते हैं जिसका “कलिक ” अवतार के अवतरण में विश्वाश था , चाहे उनका यह विश्वास केवल अंधविश्वास पर ही आधारित था , लेकिन उनका यह विश्वास “मानव चेतना ” की गुणात्मक क्रांति के सिद्धांत के अनुकूल “अर्थपूर्ण ” विश्वास था।  अवतारों की भिन्नता को कलाओं की मात्राओं से प्रकट किया गया है।  10 कलावतार, 16 कलावतार , 24 कला पूर्ण अवतार ; अंत में बुद्ध अवतार दशम अवतार हैं।  पहले कूर्म , मत्स्य , वराह , नरसिंह अवतार हैं।  राम मर्यादा पुरुषोत्तम अवतार हैं।  कृष्ण पूर्ण अवतार हैं।  यह अवतार मनुष्य के क्रमश: विकास को सूचित करते हैं।  लेकिन यह विकास , मानवी चेतना के के विकास के द्रष्टिकोण से क्रमश: विकास है।  उदाहरण के लिए , अंतिम अवतार बुद्धि का अवतार हैं : बुद्ध अवतार।

25 – गीता और चेतना में  “गुणात्मक” विकास के दो तरीके :

आध्यात्मिक विकास वादियों का अनुमान है कि मनुष्य के अन्दर बुद्धि या विवेक से पहले “सहज ज्ञान ” की स्टेज आती है।  जिसे इन्टूशनल ज्ञान कहते हैं , जिसका विज्ञान योग है।  यह सहज ज्ञान पशुओं में स्वाभाविक ही बहुत अधिक होता है चूँकि पहली स्टेज में मनुष्य पशुओं के अधिक निकट होता है। इसलिए योग साधना उनके लिए अपेक्षाकृत सरल होता है।  विचार प्रक्रियाएँ मन की एकाग्रता में बाधक होती हैं।  इसलिए आधुनिक बौद्धिक विचारशील व्यक्ति को अधिक मुश्किलें पेश आती हैं।

संक्षेप में , मेरा अभिप्राय यह है कि चेतना की क्रांति अथवा मानव विकास की गुणात्मक क्रांति समाजवाद , पूँजीवाद, सामंतवाद आदि नहीं है बल्कि अवतार हैं। भगवान् कृष्ण ने गीता में इसके दो तरीके बतलाये हैं , जैसाकि श्री अरविन्द ने अपने गीता निबंध में इन तरीकों की व्याख्या में बतलाया है कि गीता का उद्देश्य ही मनुष्यजाति की पर इस रहस्य को प्रकट करना था कि मनुष्य अपनी योग साधना के बल से भी उच्च चेतना में उठ सकता है और अपने अन्दर गुणात्मक परिवर्तन सिद्ध कर सकता है।  और दूसरा तरिका उच्च चेतना का सीधा सीधा अवतरण होकर भौतिक शरीर धारण करके अपने उदाहरण से और अपने नेतृत्व से नई चेतना को मनुष्य जाति में स्थापित करना है।  यदा यदा धर्मस्य: ग्लानिर्भवति भारत: , तन्मानमाना स्रजन अहमयं।  इसका अर्थ यह है कि जब जब अर्थात बिना अपवाद के यह एक नियम के सामान है कि जब जब धर्म से ग्लानि होती है।  धर्म का अर्थ है चैतन्य का स्वाभाव अर्थात जब जब मनुष्यजाति चेतनाय के स्वाभाव को त्याग कर पदार्थ के स्वभाव को ग्रहण कर लेती है तब तब मैं अपने शरीर को सृजता हूँ।  पशु और मनुष्य के अन्तर से इस व्याख्या पर प्रभाव पडेगा।

26 – मनुष्य और पशु में बुनियादी अन्तर :

पशुओं की जीवनचर्या उनकी आन्तरिक प्रकृति के स्वभाव के अनुकूल होती है।  यह तो निर्विवाद है कि स्थूल भौतिक प्रवत्ति के विरुद्ध वह भी अपना जीवन संघर्ष चलाते हैं।  लेकिन वह अपनी आदतों के अनुसार चलते हैं।  यह आदतें ही उनका स्वाभाव या उनकी आंतरिक प्रवत्ति है।

मनुष्य और पशु में यह मौलिक अन्तर है कि मनुष्य के पास विवेक शक्ति है , उसके पास बुद्धि शक्ति है , वह अपनी आदतों पर अपनी बुद्धि और विवेक शक्ति का नियंत्रण लगा सकता है।  संक्षेप में , जहाँ पशु स्टेज में चेतना का संघर्ष बाह्य भौतिक प्रकृति से है , वहां मानवी स्टेज में चेतना का संघर्ष बाह्य भौतिक प्रकृति के साथ साथ सूक्ष्म आन्तरिक प्रकृति के खिलाफ भी आरम्भ हो  जाता है।  यही पशु और मनुष्य में मूल अन्तर है।

27 – मनुष्य की चेतना का “ऊचां” और “नीचा” स्तर होना :

इसलिए जिस अनुपात में कोई मनुष्य अपनी सूक्ष्म प्रकृति पर अथवा अपने मन और इन्द्रियों पर नियंत्रण स्थापित कर पाता है उतना ही वह पशु नहीं है , उतना ही वह मनुष्य है और जितना ही जो मनुष्य अपने मन , आदतों और इन्द्रियों का गुलाम है , वह मानव शरीर रखते हुए भी उतना ही पशु है।  क्योंकि पशु में और मनुष्य में यह तो मूल अन्तर है।

जब यह अन्तर खत्म हो गया तो पशुत्व और मनुष्यत्व का अन्तर भी खत्म हो गया।  इसी सिद्धांत पर आधारित ब्रह्मचर्य का सिद्धांत है।  पश्चिम के विरुद्ध हमारा नारा है : प्रकृति के विरुद्ध जीवन यापन करो।  जबकि पश्चिमी जगत कहता है कि प्रकृति के अनुकूल जीवन यापन करो। ब्रह्मचर्य: तपसादेवा मृत्युमुपाधंत: – ब्रह्मचर्य के तप से देवताओं ने मृत्यु को जीत लिया था अथवा इसका भी यही अर्थ है कि पशुओं और मनुष्य में आहार , निद्रा और मैथुन तो पशुओं के सामान ही है बस उसमे धर्म फालतू है।

28 – चेतना-विकास बिल्कुल व्यक्तिगत कार्य :

यह भी स्पस्ट ही है आन्तरिक प्रकृति अथवा सूक्ष्म प्रकृति के विरुद्ध मनुष्यजाति का यह संघर्ष सामाजिक क्षेत्र में नहीं चल सकता , यह व्यक्तिगत क्षेत्र में ही चल सकता है क्योंकि यह अपने विवेक द्वारा स्वेच्छा से अपने ऊपर लगाया हुआ नियंत्रण है।

इसीलिए मानव विकास का यह द्रष्टिकोण व्यक्तिवादी कहलाता है।

इस क्रांति की कार्य विधि व्यक्तिगत है क्योंकि इस में मनुष्य को अपने निज के स्वभाव के विरुद्ध संघर्ष रत होना होता है।  मूलत: यह संघर्ष प्रकृति और चेतना का है। इसकी भी रण नीति है , वर्ग शक्तियां हैं , कौतल सेनाएँ हैं और मुख्य प्रहार की दिशा है। इसकी दो शक्तियां हैं: देव और असुर; देव चेतना के प्रतिनिधि हैं और असुर प्रकृति के प्रतिनिधि हैं।  इसलिए ऊपर लिखित गीता के श्लोक का भावार्थ यह ही है कि जब जब आसुरिक शक्तियां देवताओं को दबा लेती हैं तो देवताओं की सहायता के लिए भगवान् अवतार लेते हैं।  और पृथ्वी का बोझ हल्का करते हैं।  सारांश यही है कि चेतना और प्रकृति के संघर्ष में चेतना को आगे बढ़ाने के लिए भगवान अवतार लेते हैं।

अब मैं संक्षेप में मूल विषय पर आता हूँ।

29 – समाजवाद ध्येय नहीं बल्कि  साधन मात्र है :

चूँकि मार्क्सवादी आर्थिक द्रष्टिकोण से वर्तमान युग समाजवाद का है जोकि प्राचीन आदिम साम्यवादी उत्पादन व्यवस्था की ऊँची मंजिल में पुनरावृत्ति है और चेतना के वर्णाश्रम धर्म व्यवस्था के द्रष्टिकोण से भी यह स्टेज शूद्र राज की है , ब्राह्मण , क्षत्रिय और वैश्य राज की स्टेज व्यतीत हो चुकी है।  अर्थात वर्तमान मंजिल की आवृत्ति पूर्ण हो जाती है इसलिए इतिहास में यह मंजिल चेतना की क्रांति की है जो मनुष्यजाति की बुनियादी क्रांति है , जिस से केवल आर्थिक विकास ही नहीं मनुष्यत्व का विकास सम्बद्ध है।  इसलिए समाजवादी परिवर्तन एक आध्यात्मिक क्रान्ति की पृष्ठभूमि में होने हैं।  एक आध्यात्मिक क्रान्ति के प्रसंग में होने हैं।

इसलिए समाजवादी परिवर्तन हमारा ध्येय नहीं है , बल्कि एक आध्यात्मिक क्रान्ति के लिए उनकी आवश्यकता है।  संक्षेप में , समाजवाद हमारा साध्य नहीं है बल्कि साधन है।  हमारा ध्येय आध्यात्मिक क्रान्ति है इसलिए आँख मूँद कर हम समाजवाद अथवा मार्क्सवाद के सब पक्षों का समर्थन नहीं कर सकते।  हम कुछ का समर्थन करेंगे और कुछ का विरोध करेंगे।  हम उसके समाजवाद का अर्थात श्रम शक्ति के आदर के राज्य का समर्थन करेंगे , लेकिन उसके भौतिकवादी द्रष्टिकोण और सर्वहारा द्वारा अधिनायकत्व का विरोध करेंगे।

30 – मार्क्सवाद के बहुत से अंश पुराने और अनुपयोगी हैं :

हम जनतांत्रिक समाजवाद के सिद्धांत को रूस और चीन के तानाशाही सिद्धांत से ऊंचा समझते हैं।  56 वर्षीय सोवियत शासन के अनुभव से अब स्पष्ट हो जानी चाहिए। श्री लेनिन की उक्ति निम्न प्रकार है : ” जनतंत्र  पूँजीवाद का राजनैतिक स्रोत है।” वास्तव में जनतंत्र जनतंत्र काल के द्रष्टिकोण से राजसत्ता का विकेन्द्रीकरण है।

और तानाशाही चाहे वह सर्वहारा वर्ग  ही क्यों न हो , मानव आत्मा के लिए कारागार है जिसमे व्यक्ति का स्वतंत्र अस्तित्व अस्तित्व समाप्त होकर वह सामाजिक यंत्र का एक निर्जीव पुर्जा मात्र बन जाता है।  एविजोनिया जींझ बर्ग , अनातोल मार्चेंको , यूली डेनियल और सिंयोवस्की और यूगोस्लाविया कम्युनिस्ट नेता नेता श्री जिलास की रचना “नया वर्ग ” से यह ऐतिहासिक तथ्य अब किसी गवाहों का मुहताज नहीं रहा है।

मार्क्सवाद के बहुत से अंश अब पुराने होकर अनुपयोगी हो चुके हैं। ..

31 – हमारा लक्ष्य  होना चाहिए : मनुष्य -जाति में बुनियादी क्रांति लाना !

जब हम क्रान्तिकारी हैं तो मनुष्य जाति की बुनियादी क्रान्ति का लक्ष्य हमारे समक्ष होना चाहिये।  क्रांतियाँ हमेशा “विकास के अवरोध” दूर करने के लिए जन्म गृहण करती हैं। पर फ़्रांसिसी और रूसी क्रांतियाँ अपने मानवता वादी उदेश्य में तो असफल हो रही हैं।  फ्रांसीसी क्रान्ति मनुष्यजाति में हाबिल बाबिल से बढ़िया भाई चारा स्थापित नहीं कर सकी ((नोट – हाबील हजरत आदम का पुत्र था जिसने अपने भाई कर दी थी) और रूसी क्रांति भी राजसत्ता हीन समाज की स्थापना के अपने वायदे को पूरा नहीं कर सकी। (नोट – चीनी , पूर्वी यूरोप और क्यूबा की क्रांतियां कोई स्वतंत्र क्रांतियाँ नहीं हैं बल्कि यह सब रूसी क्रांति का ही दूसरी राष्ट्र सीमाओं में विस्तार मात्र हैं।  उनकी कोई स्वतंत्र उपलब्धि नहीं है।)

श्री लेनिन ने अपनी “राजसत्ता और क्रांति” और “मजदूर क्रान्ति और गद्दार कॉटस्की” में हमें जैसी आशा दिलाई थी वह आशा अब धूल में मिल चुकी है।  राजसत्ता धीरे धीरे मुरझा कर समाप्त होने के बजाये राजसत्ता धीरे धीरे मजबूत हुई है, वर्ग हीन समाज के बजाये वहां एक नया वर्ग उत्पन्न हो गया है, जो एन के वी डी की सहायता से एक क्रूर और निर्मम शासन है।

वास्तव में इन क्रांतियों का उद्देश्य मानव विकास के द्रष्टिकोण से वह नहीं था जिसकी घोषणा की गयी थी।  यह वास्तव में भौतिकवादी क्रांतियां थीं और उनका मिशन मानव स्टेज के प्रोसेस को पूरा करना था और इस मकसद में यह क्रांतियाँ सफल रही हैं।

और इसी लिए अब एक आध्यात्मिक क्रांति अजेंडे पर है जो हमें इस बात की समझ प्रदान करती है कि हमारी मनुष्य की परिभाषा गलत थी और हमारा वर्ग विश्लेषण भी गलत था।  असिल समस्या भौतिक प्रकृति पर विजय की इतनी नहीं है जितनी सूक्ष्म प्रकृति पर विजय की थी।  संघर्ष का मुख्य मोर्चा सामाजिक क्षेत्र में इतना नहीं था जितना व्यक्ति के क्षेत्र में था।  समस्या संसार को बदलने की इतनी नहीं थी , वास्तव में मानव चेतना को बदलने की है।  आज मानव चेतना में परिवर्तन हुए बगैर विश्व को वर्तमान समस्याओं का समाधान नहीं हो सकता।

32 – हिंसा से मानव नस्ल को ख़तरा – चेतना को ऊपर उठाना ही समाधान :

इन क्रांतियों में संघर्ष के जो मानदंड मनुष्य जाति को प्रदान किये वही मनुष्य जाति के लिए एक बीमारी , एक समस्या बन चुके हैं।  मांगो और हड़तालों का एक ऐसा अनवरत प्रवाह है जिसका कही भी अंत नहीं दिखाई देता है।  हिंसात्मक उपायों और युद्ध , एटम की खोज से मनुष्य जाति के लिए एक ऐसी समस्या बन चुके है जिस से मनुष्य की नसल का अस्तित्व ही खतरे में है।  इन समस्याओं का समाधान किसी भी दूसरे उपाय से नहीं किया जा सकता।  केवल मानव चेतना में परिवर्तन से ही हो सकता है।

इसके अतिरिक्त संसार के सभी राष्ट्रों में एक आम बेचैनी अनुभव की जा रही है।  दौलत के भंडार हैं , ऊँची ऊँची अट्टालिकाएं हैं , कारें हैं , हवाई जहाज और चाँद और मंगल की खोज भी है , लेकिन तिस पर भी कहीं शांति नहीं है।  मार्क्सवाद ने अपने विश्व सम्बन्धी द्रष्टिकोण को विज्ञान की पुट दे कर संसार में इस अशान्ति को बढ़ावा देकर अनिवार्य बना दिया है।  कार्ल मार्क्स ने कहा तो यह था कि जो दर्शन सिर के बल उल्टा खड़ा था उसे मैंने सीधा करके पैरों पर खड़ा कर दिया है , लेकिन वास्तविकता यह है कि दार्शनिक भौतिकवाद ने मनुष्य जाति को सिर हीन बना डाला है।  अब उसके जीवन का कोई लक्ष्य ही नहीं है।  इसलिए आज मनुष्य निरुद्देश्य इधर उधर अपने मन और इन्द्रियों के पीछे दौड़ लगा रहा है।  इस दौड़ का कहीं अंत नहीं है , कहीं विराम नहीं है।  उसका बेचैन होना स्वाभाविक ही है।  इन साड़ी सममस्याओँ का समाधान एक मात्र आध्यात्मिक क्रांति से ही संभव है।  इस क्रांति का बहुत सीधा साधा प्रोग्राम है , कोई विशेष आडम्बर की बात नहीं है।

एक बहुत प्राचीन कहावत है कि तुम संसार को जैसा बनाना चाहते हो स्वयं वैसे बन जाओ और संसार वैसा ही बन जाएगा।  कहने और करने का का प्रैक्टिकल स्वरूप स्वयं बन जाना है। इसका सीधा साधा अर्थ यह हुआ कि यह आध्यात्मिक परिवर्तन सी साधना सबसे पहले हमें स्वयं अपने अन्दर साधनी है।  जैसे ही हमें इसमें कुछ सफलता मिलेगी , हम अपने से बाहर समाज  पर भी द्रष्टि डाल सकते हैं और उसमे भी यह परिवर्तन साधित कर सकते हैं।

33 – नव युवकों को भौतिकवादी सामाजिक  क्रांति के स्थान पर मानवीय आध्यात्मिक क्रांति के लिए तैयार करें

हम भौतिकवादी विश्व-दृश्टिकोण के खिलाफ नव युवकों में विद्यार्थी समाज में संघर्ष चला सकते हैं।नव युवक वर्ग हमारी जाति की ऊर्जा शक्ति है। इस शक्ति के बिना कोई भी क्रांति सफल नहीं हो सकतीहै।ऐसा करने से एक नया नेतृत्व विकसित हो जायेगा जिसके सोचने समझने के मानदंडऔर मूल्यांकन पुरानी पीढ़ी से – जो भौतिकवादी द्रष्टिकोण में रह रही है – भिन्न होंगे और वर्तमान निक्कमी दौड़ अथवा रूझान में एक ऐतिहासिक मोड़ आ जाएगा। आज नवयुवकों के सामने कोई उद्देश्य नहीं है।  वह या तो दादागिरी करके क्रिमिनल बन जाते हैं अथवा नक्सलपंथी पागल पन का शिकार बन जाते हैं।  और हमारे राष्ट्र की यह ऊर्जा शक्ति सही मार्ग न मिलने से गलत मार्ग में व्यर्थ नष्ट हो जाती है।

हम कर्मयोग की धारणा से देश के राजनैतिक जीवन में भी भाग ले सकते हैं।  और अपने उदाहरण , विचारों और व्यवहार से अपने आध्यत्मिक क्रांति के मिशन को शक्ति प्रदान कर सकते हैं।  संक्षेप में , किसी कर्म को करने के यही तीन उपाय होते हैं।  मनसा वाचा कर्मणा अथवा ज्ञान , कर्म और भक्ति योग , ये इसमें तीनों आ गए।  हरेक कर्म एक योग है , यदि उसे कुशलता पूर्वक किया जाये।

34 – विज्ञान की खोजों ने मार्क्सवाद की नीव हिला दी  – दर्शन शास्त्र  :

अब मैं एक अंतिम प्रश्न उठा कर इस निबंध को समाप्त करता हूँ।  क्या मार्क्सवाद का भौतिकवादी विश्व सम्बन्धी दृष्टिकोण , आज भी वैज्ञानिक दृष्टिकोण है ? क्या उसमे अब भी वैज्ञानिकता बकाया है , जैसा कि इसके सम्बन्ध में दावा किया जाता रहा है ? आधुनिक बौद्धिक वर्ग के दिमाग पर इसका हव्वा बैठा हुआ है।

मेरी सम्मति में , एटम के विश्लेषण के बाद अब यह दावा करना गलत है।  इस दृष्टिकोण की सबसे पहले स्थापना श्री फ्रेडरिक एंगेल्स ने प्रोफेसर ड्यूहरिंग के मत के खंडन के संदर्भ में उनकी प्रसिद्ध रचना “एन्टी ड्यूहरिंग” में हुई थी।  श्री ओ. यखोत आदि रशियन दार्शनिक आज भी लेनिन , मार्क्स , एंगेल्स के उद्धरण अपनी तूम – तराक से उद्धरत करते हैं मानो कि मानव ज्ञान में उस वक्त से अब तक कोई विशेष अन्तर नहीं पड़ा है और आज भी वह बात मानी जानी चाहिए , जो उन्होंने उस वक्त के उपलब्ध  ज्ञान के आधार पर कही थी।  साथ इस से यह भी आभास होता है कि इस द्रष्टिकोण के मूल में असिल समस्या क्या है उन्हें यह भी ज्ञान नहीं और यह दार्शनिक वृथा ही धुल में लाठी मर रहे हैं।

बात यह थी कि सृष्टि के सम्बन्ध में प्रोफेसर डूहरिंग के दिमाग में एक उलझन थी।  वह गति और पदार्थ को अलग अलग मानते थे।  लेकिन एक साथ चूल नहीं बैठा पा रहे थे।  वह थे तो भौतिकवादी ही , लेकिन गति और पदार्थ का सम्बन्ध मिला रहे थे , जिस से एंगेल्स को यह ख़तरा महसूस हुआ कि यदि प्रोफेसर डूहरिंग के विचार को मान लिया गया तो पार्टी आदर्शवाद के चंगुल में फंस जाएगी।  …… {एक पेज नष्ट हो गया है } ….. का यही केंद्रीय विन्दु था। फिर तो उन्होंने जीवन की परिभाषा इसी के सामानांतर भौतिकवादी की :

“जीवन एल्ब्यूमिन पिंडों के अस्तित्व की प्रणाली है ” (एंटी – डूहरिंग)।

प्रश्न तो यह है कि क्या एटम के ज्ञान के बाद भी यह परिभाषा सही सलामत बच गयी है ? एटम के विश्लेषण से तो मनुष्य को यह ज्ञान हो गया कि गति पदार्थ के अस्तित्व की प्रणाली नहीं है , बल्कि उसकी एक अवस्था है।  पदार्थ को खर्च करके गति विद्युत् अथवा उष्मा प्राप्त की जा सकती है; अर्थात पदार्थ को गति में बदला  सकता है।  यह ज्ञान भौतिकवाद का समर्थन नहीं करता, बल्कि अध्यात्मवाद का समर्थन करता है। प्राचीन दर्शन शक्ति को प्राण की संज्ञा देता है।  इसलिए सहज ही यह अनुमान किया जा सकता है कि भूतकाल में कभी यह भौतिक विश्व अद्रश्य प्राण रूप  था और कालान्तर में फिर भी यह प्राण में अंतर्लीन होकर अद्रश्य हो जा सकता  है।

फिर इतना ही क्यों कि प्राण का अंतिम रूप  प्राण ही है? जब पदार्थ अपने अंतिम विश्लेषण में पदार्थ के बजाय एक शक्ति सिद्ध हो गया तो फिर यह भी सिद्ध हो सकता है कि “प्राण ” मन का ही स्थूलीकरण है और इसी प्रकार मन आत्मा का स्थूल रूप है।  विज्ञान की यह खोज कि पदार्थ को ऊर्जा में बदला जा सकता है, अद्वैत भौतिकवाद अथवा मार्क्सवादी दर्शन का समर्थन नहीं करती , बल्कि अद्वैत चैतन्यवाद अथवा वेदांत का समर्थन करती है।  और इसलिए आज मार्क्सवाद का वैज्ञानिक आधार खंडित हो चुका है।  श्री अरविन्द की यह स्थापना वैज्ञानिक है कि पदार्थ जमाई हुई चेतना है।

दूसरी बात वह अपनी विश्लेषण प्रणाली को बहुत वैज्ञानिक मानता है।  यह विश्लेषण प्रणाली उसके विश्व के सम्बन्ध में अपने भौतिक विचार से ली गई है।  भारत में तो उसे इस प्रणाली के बल पर किये गए विश्लेषण के आधार पर सफलता नहीं मिली लेकिन भारत के मार्क्सवादी बार बार असफलता के बावजूद विश्व के सम्बन्ध में इस भौतिकवादी विचार को गलत नहीं मानते और सारा कसूर अपनी अज्ञानता का मानते हैं।  संक्षेप में मार्क्सवाद का तरीका यह है कि चूँकि विश्व एक है , सम्बद्ध है, गतिशील है इसलिए हमें हर घटना की जाँच , सम्बद्धता में , पृष्ठभूमि में और गतिशीलता में करनी चाहिए।  मेरी सम्मति में विश्व के सम्बन्ध में योगियों का द्रष्टिकोण अधिक वैज्ञानिक है। यह निम्नलिखित है, पाठक स्वयं फैसला कर लें कि कौनसा वैज्ञानिक है :

“जगत एक है , अच्छेद्य रूप से और ठोस रूप से एक है।  इसका कोई भाग दूसरे भाग से पृथक नहीं किया जा सकता।  कोई क्रिया चाहे कहीं भी क्यों न हो वह समग्र पर अपना प्रभाव डालती है।  और सम्पूर्ण समतोलता को भांग किये बिना कोई भी चीज बाल बराबर भी इधर उधर नहीं हटाई जा सकती।  प्रत्येक उपादान, शब्दसः ऐसा कहा जा सकता है कि, प्रत्येक दूसरे उपादान में रहता है, चलता फिरता और अपना ……… (बकाया पृष्ठ नष्ट हो गए ) …… ”

(समाप्त )

 

Definition of a ‘Bhakta’ – Shame on You ‘Bhaktas’ !!


Who are the real ‘Bhakts’ ? A ‘Bhakta’ is a sycophant – in colloquial Hindi, a ‘Chamcha’ – of a supposedly ‘great’ leader, who in fact is not that ‘great’ as he is made out to be. How does a sycophant try to make ‘his leader’ a great one? Simple: By making ‘his leader’ occupy a large – larger than he deserves – public space in the national conscience. It is achieved by naming things and places after his name, so that his memory is constantly pushed into public mind where ever one goes. It is so crude ! Currently, the ‘Bhaktas’ of Nehru-Gandhi dynasty label the admirers of Narendra Modi as ‘Bhaktas’. Any person can accuse another person of any fault but it needs the proof to establish the truth of the accusation. Let us peruse the ‘proof’ of the real ‘Bhaktas’. Read this list:

Games:

  1. Rajiv Gandhi Gold Cup Kabaddi Tournament
  2. Rajiv Gandhi Sadbhavana Run
  3. Rajiv Gandhi Federation Cup boxing championship
  4. Rajiv Gandhi International tournament (football)
  5. NSCI – Rajiv Gandhi road races, New Delhi
  6. Rajiv Gandhi Boat Race, Kerala
  7. Rajiv Gandhi International Artistic Gymnastic Tournament
  8. Rajiv Gandhi Kabbadi Meet
  9. Rajiv Gandhi Memorial Roller Skating Championship
  10. Rajiv Gandhi memorial marathon race, New Delhi
  11. Rajiv Gandhi International Judo Championship, Chandigarh
  12. Rajiv Gandhi Memorial Trophy for the Best College, Calicut
  13. Rajiv Gandhi Rural Cricket Tournament, Initiated by Rahul Gandhi in Amethi
  14. Rajiv Gandhi Gold Cup (U-21), football
  15. Rajiv Gandhi Trophy (football)
  16. Rajiv Gandhi Award for Outstanding Sportspersons
  17. All India Rajiv Gandhi Basketball (Girls) Tournament, organized by Delhi State
  18. All India Rajiv Gandhi Wrestling Gold Cup, organized by Delhi State
  19. Rajiv Gandhi Memorial Jhopadpatti Football Tournament, Rajura
  20. Rajiv Gandhi International Invitation Gold Cup Football Tournament, Jamshedpur
  21. Rajiv Gandhi Mini Olympics, Mumbai
  22. Rajiv Gandhi Beachball Kabaddi Federation
  23. Rajiv Gandhi Memorial Trophy Prerana Foundation
  24. International Indira Gandhi Gold Cup Tournament
  25. Indira Gandhi International Hockey Tournament
  26. Indira Gandhi Boat Race
  27. Jawaharlal Nehru International Gold Cup Football Tournament
  28. Jawaharlal Nehru Hockey Tournament

Stadium :
1. Indira Gandhi Sports Complex, Delhi
2. Indira Gandhi Indoor Stadium, New Delhi
3. Jawaharlal Nehru Stadium, New Delhi
4. Rajiv Gandhi Sports Stadium, Bawana
5. Rajiv Gandhi National Football Academy, Haryana
6. Rajiv Gandhi AC Stadium, Vishakhapatnam
7. Rajiv Gandhi Indoor Stadium, Pondicherry
8. Rajiv Gandhi Stadium, Nahariagun, Itanagar
9. Rajiv Gandhi Badminton Indoor Stadium, Cochin
10. Rajiv Gandhi Indoor Stadium, Kadavanthra,Ernakulam
11. Rajiv Gandhi Sports Complex , Singhu
12. Rajiv Gandhi Memorial Sports Complex, Guwahati
13. Rajiv Gandhi International Stadium, Hyderabad
14. Rajiv Gandhi Indoor Stadium, Cochin
15. Indira Gandhi Stadium, Vijayawada, Andhra Pradesh
16. Indira Gandhi Stadium, Una, Himachal Pradesh
17. Indira Priyadarshini Stadium, Vishakhapatnam
18. Indira Gandhi Stadium, Deogarh, Rajasthan
19. Gandhi Stadium, Bolangir, Orissa
20. Jawahar Lal Nehru Stadium, Coimbatore
21. Rajiv Gandhi international cricket stadium,Dehradun
22. Jawaharlal Nehru Stadium, Chennai
23. Nehru Stadium(cricket), Pune
Airports/ Ports :
1. Rajiv Gandhi International Airport, Shamshabad, Hyderabad, Telangana
2. Rajiv Gandhi Container Terminal, Cochin
3. Indira Gandhi International Airport, New Delhi
4. Indira Gandhi Dock, Mumbai
5. Jawaharlal Nehru Nava Sheva Port Trust, Mumbai
Universities/Education Institutes:
1. Rajiv Gandhi Indian Institute of Management, Shilong
2. Rajiv Gandhi Institute of Aeronautics, Ranchi, Jharkhand
3. Rajiv Gandhi Technical University, Gandhi Nagar, Bhopal, M.P.
4. Rajiv Gandhi School of Intellectual Property Law, Kharagpur, Kolkata
5. Rajiv Gandhi Aviation Academy, Secundrabad
6. Rajiv Gandhi National University of Law, Patiala, Punjab
7. Rajiv Gandhi National Institute of Youth Development, Tamil Nadu Ministry of Youth Affairs and Sports
Budgetary Allocation 2008-09 – 1.50 crore
Budgetary Allocation 2009-10 – 3.00 crore
8. Rajiv Gandhi Aviation Academy, Begumpet, Hyderabad, A.P
9. Rajiv Gandhi Institute of Technology, Kottayam, Kerala
10. Rajiv Gandhi College of Engineering Research & Technology, Chandrapur, Maharashtra
11. Rajiv Gandhi College of Engineering, Airoli, Navi Mumbai, Maharashtra
12. Rajiv Gandhi University, Itanagar, Arunachal Pradesh
13. Rajiv Gandhi Institute of Technology, Chola Nagar, Bangalore, Karnataka
14. Rajiv Gandhi Proudyogiki Vishwavidyalaya, Gandhi Nagar, Bhopal, M.P.
15. Rajiv Gandhi D.e.d. College, Latur, Maharashtra
16. Rajiv Gandhi College, Shahpura, Bhopal
17. Rajiv Gandhi Foundation, Rajiv Gandhi Institute for Contemporary Studies, New Delhi
18. Rajiv Gandhi Institute of Petroleum Technology, Raebareli, U.P.
19. Rajiv Gandhi Homeopathic Medical College, Bhopal, M.P.
20. Rajiv Gandhi Institute of Post Graduate Studies, East Godavari District, A.P.
21. Rajiv Gandhi College of Education, Thumkur, Karnataka
22. Rajiv Gandhi College of Veterinary & Animal Sciences, Pondicherry, Tamil Nadu
23. Rajiv Gandhi Institute of IT and Biotechnology, Bhartiya Vidhyapeeth
24. Rajiv Gandhi High School, Mumbai, Maharashtra
25. Rajiv Gandhi Group of Institutions, Satna, M.P.
26. Rajiv Gandhi College of Engineering, Sriperumbudur, Tamil Nadu
27. Rajiv Gandhi Biotechnology Centre, R.T.M., Nagpur University
28. Rajiv Gandhi Centre for Biotechnology, Thiruvananthapuram, Kerala
29. Rajiv Gandhi Mahavidyalaya, Madhya Pradesh
30. Rajiv Gandhi Post Graduate College, Allahabad, U.P.
31. Rajiv Gandhi Institute of Technology, Bangalore, Karnataka
32. Rajiv Gandhi Govt. PG Ayurvedic College, Poprola, Himachal Pradesh
33. Rajiv Gandhi College, Satna, M.P.
34. Rajiv Gandhi Academy for Aviation Technology, Thiruvananthapuram, HB GB HDD gv gv c dc fc Kerala
35. Rajiv Gandhi Madhyamic Vidyalaya, Maharashtra
36. Rajiv Gandhi Institute of Contemporary Studies, New Delhi
37. Rajiv Gandhi Centre for Innovation and Entrepreneurship
38. Rajiv Gandhi Industrial Training Centre, Gandhinagar
39. Rajiv Gandhi University of Knowledge Technologies, Andhra Pradesh
40. Rajiv Gandhi Institute Of Distance Education, Coimbatore, Tamil Nadu
41. Rajiv Gandhi Centre for Aquaculture , Tamil Nadu
42. Rajiv Gandhi University (Arunachal University), A.P.
43. Rajiv Gandhi Sports Medicine Centre (RGSMC), Kerala
44. Rajiv Gandhi Science Centre, Mauritus
45. Rajiv Gandhi Kala Mandir, Ponda, Goa
46. Rajiv Gandhi Vidyalaya, Mulund, Mumbai
47. Rajiv Gandhi Memorial Polytechnic, Bangalore, Karnataka
48. Rajiv Gandhi Memorial Circle Telecom Training Centre (India), Chennai
49. Rajiv Gandhi Institute of Pharmacy, Kasagod, Kerala
50. Rajiv Gandhi Memorial College Of Aeronautics, Jaipur
51. Rajiv Gandhi Memorial First Grade College, Shimoga
52. Rajiv Gandhi Memorial College of Education, Jammu & Kashmir
53. Rajiv Gandhi South Campus, Barkacha, Varanasi
54. Rajiv Gandhi Memorial Teacher’s Training College, Jharkhand
55. Rajiv Gandhi Degree College, Rajahmundry, A.P.
56. Indira Gandhi National Open University (IGNOU), New Delhi
57. Indira Gandhi Institute of Development & Research, Mumbai, Maharashtra
58. Indira Gandhi National Forest Academy, Dehradun
59. Indira Gandhi RashtriyaUran Akademi, Fursatganj Airfield, Rae Bareli, Uttar Pradesh
60. Indira Gandhi Institute of Development Research, Mumbai
61. Indira Gandhi National Tribal University, Orissa
62. Indira Gandhi B.Ed. College, Mangalore
63. Smt. Indira Gandhi College of Education, Nanded, Maharashtra
64. Indira Gandhi Balika Niketan B.ED. College, Jhunjhunu, Rajasthan
65. Indira Gandhi Krishi Vishwavidyalaya, Raipur, Chhattisgarh
66. Smt. Indira Gandhi College of Engineering, Navi Mumbai, Maharashtra
67. Smt. Indira Gandhi Colelge, Tiruchirappalli
68. Indira Gandhi Engineering College, Sagar, Madhya Pradesh
69. Indira Gandhi Institute of Technology, Kashmere Gate, Delhi
70. Indira Gandhi Institute of Technology, Sarang, Dist. Dhenkanal, Orissa
71. Indira Gandhi Institute of Aeronautics, Pune, Maharashtra
72. Indira Gandhi Integral Education Centre, New Delhi
73. Indira Gandhi Institute of Physical Education & Sports Sciences, Delhi University, Delhi
74. Indira Gandhi High School, Himachal
75. Indira Kala Sangit Vishwavidyalaya, Chhattisgarh
76. Indira Gandhi Medical College, Shimla
77. Jawaharlal Nehru Technological University, Kukatpally, Andhra Pradesh
78. Nehru Institute of Mountaineering, Uttarakashi
79. Pandit Jawaharlal Nehru Institute of Business Management, Vikram University
80. Jawaharlal Nehru University, New Delhi
81. Jawaharlal Nehru Centre for Advanced Scientific Research, Bangalore
82. Jawaharlal Nehru Technological University, Kukatpally, AP
83. Jawaharlal Nehru Engineering College in Aurangabad, Maharashtra
84. Jawaharlal Nehru Centre for advanced Scientific Research, a deemed university, Jakkur, P.O. Bangalore
85. Jawaharlal Nehru Institute of Social Studies, affiliated to Tilak Maharashtra Vidyapith (Pune, Maharashtra)
86. Jawaharlal Nehru College of Aeronautics & Applied Sciences, Coimbatore, (ESTD 1968)
87. Jawaharlal Nehru Institute of Technology, Katraj, Dhankwdi, Pune, Maharashtra
88. Kamal Kishore Kadam’s Jawaharlal Nehru Engineering College in Aurangabad, Maharashtra
89. Jawaharlal Nehru Institute of Education & Technological Research, Nanded, Maharashra
90. Jawaharlal Nehru College, Aligarh
91. Jawaharlal Nehru Technological University, Hyderabad
92. Jawaharlal Nehru Krishi Vishwavidyalaya, Jabalpur
93. Jawaharlal Nehru B.Ed. College, Kota, Rajasthan
94. Jawaharlal Nehru P.G. College, Bhopal
95. Jawaharlal Nehru Government Engineering College, Sundernagar, District Mandi, H.P.
96. Jawaharlal Nehru Public School, Kolar Road, Bhopal
97. Jawaharlal Nehru Technological University, Kakinada, A.P.
98. Jawaharlal Nehru Institute of Technology, Ibrahimpatti, Andhra Pradesh
99. Jawahar Navodaya Vidyalaya

598 JNVs across India as of 2015–16 (Jawahar Navodaya Vidyalaya)
1. Indira Gandhi Centre for Atomic Research, Kalpakkam

  1. Indira gandhi university Rewari Haryana
    Awards:
  2. Rajiv Gandhi Award for Outstanding Achievement
  3. Rajiv Gandhi Shiromani Award
  4. Rajiv Gandhi Shramik Awards, Delhi Labour Welfare Board
  5. Rajiv Gandhi National Sadbhavana Award
  6. Rajiv Gandhi Manav Seva Award
  7. Rajiv Gandhi Wildlife Conservation Award
  8. Rajiv Gandhi National Award Scheme for Original Book Writing on Gyan Vigyan
  9. Rajiv Gandhi Khel Ratna Award
  10. Rajiv Gandhi National Quality Award, Instituted by Bureau of Indian Standards in 1991
  11. Rajiv Gandhi Environment Award for Clean Gandhi, Ministry of Environment & Forest, Govt. of India
  12. Rajiv Gandhi Travelling Scholarship
  13. Rajiv Gandhi(UK) Foundation Scholarship
  14. Rajiv Gandhi Film Awards (Mumbai)
  15. Rajiv Gandhi Khelratna Puraskar
  16. Rajiv Gandhi Parisara Prashasti, Karnataka
  17. RajivGandhi Vocational Excellence Awards
  18. Rajiv Gandhi Excellence award
  19. Indira Gandhi Peace Prize
  20. Indira Gandhi Prize for National Integration
  21. Indira Gandhi Priyadarshini Award
  22. Indira Priyadarshini Vrikshamitra Awards, Ministry of Environment and Forests
  23. Indira Gandhi Memorial National Award forBest Environmental & Ecological
  24. Indira Gandhi Paryavaran Purashkar
  25. Indira Gandhi NSS Award
  26. Indira Gandhi Award for National Integration
  27. Indira Gandhi Official Language Award Scheme
  28. Indira Gandhi Award for Best First Film
  29. Indira Gandhi Rajbhasha Awards for The Town Official Language
  30. Indira Gandhi Prize” for Peace, Disarmament and Development
  31. Indira Gandhi Prize for Popularization of Science Implementation
  32. Indira Gandhi Shiromani Award
  33. Indira Gandhi NSS Award/National Youth
  34. Indira Gandhi Paryavaran Pushar award – search n correct
  35. Indira Gandhi N.S.S Awards
  36. Indira Gandhi award for social service, MP Govt.
  37. Post Graduate Indira Gandhi Scholarship Scheme
  38. Indira Gandhi Rajbhasha Award Scheme
  39. Indira Gandhi Rajbhasha Shield Scheme
  40. Indira Gandhi Vision of Wildlife Conservation Zoo, a seminar organized by Indira Gandhi National Forest Academy.
  41. Jawaharlal Nehru award for International peace worth Rs 15 lakh cash given to many international figures, every year, including Yasser Arafat of Palestine Liberation Front in 1988 and U Thant in 1965.
  42. Soviet Land Nehru Award, a cash prize of Rs. 20,000 given to Shyam Benegal in Dec 89, in recognition of the above film.
  43. Jawaharlal Nehru Balkalyan awards of Rs.10,000 each to 10 couples by Govt. of Maharashtra (ToI-28-4-89).
  44. Jawaharlal Nehru Memorial Fund, New Delhi, for Academic Achievement
  45. Jawaharlal Nehru birth centenary research award for energy
  46. Jawaharlal Nehru Award for International Understanding
  47. Nehru Bal Samiti Bravery Awards
  48. Jawaharlal Nehru Memorial Medal
  49. Jawaharlal Nehru Prize” from 1998-99, to be given to organizations (preferably NGOs) for Popularization of Science.
  50. Jawaharlal Nehru National Science Competition
  51. Jawarharlal Nehru Student Award for research project of evolution of DNA

Scholarship / Fellowship:
1. Rajiv Gandhi Scholarship Scheme for Students with Disabilities
2. Rajiv Gandhi National Fellowship Scheme for SC/ST Candidates, Ministry of Social Justice and Empowerment
3. Rajiv Gandhi National Fellowship Scheme for ST Candidates
4. Rajiv Gandhi Fellowship, IGNOU
5. Rajiv Gandhi Science Talent Research Fellows
6. Rajiv Gandhi Fellowship, Ministry of Tribal Affairs
7. Rajiv Gandhi National Fellowship Scheme for scheduled castes and scheduled tribes candidates given by University Grants Commission
8. Rajiv Gandhi Fellowship sponsored by the Commonwealth of Learning in association with Indira Gandhi National Open University
9. Rajiv Gandhi science talent research fellowship given by Jawaharlal Nehru Centre for advanced scientific research (to promote budding scientists) done in tandem with Department of Science and Technology and Rajiv Gandhi Foundation
10. Rajiv Gandhi HUDCO Fellowships in the Habitat Sector
11. Indira Gandhi Memorial Fellowships check
12. Fullbright scholarship now renamed Fullbright- Jawaharlal Nehru Scholarship
13. Cambridge Nehru Scholarships, 10 in number, for research at Cambridge University, London, leading to Ph. D. for 3 years, which include fee, maintenance allowance, air travel to UK and back.
14. Scheme of Jawaharlal Nehru Fellowships for Post-graduate Studies, Govt. of India.
15. Nehru Centenary (British) Fellowships/Awards

National Parks/ Sanctuaries/ Museums:
1. Rajiv Gandhi (Nagarhole) Wildlife Sanctury, Karnataka
2. Rajiv Gandhi Wildlife Sanctury, Andhra Pradesh
3. Indira Gandhi National Park, Tamil Nadu
4. Indira Gandhi Zoological Park , New Delhi
5. Indira Gandhi National Park, Anamalai Hills on Western Ghats
6. Indira Gandhi Zoological Park, Vishakhapatnam
7. Indira Gandhi Rashtriya Manav Sangrahalaya (IGRMS)
8. Indira Gandhi Wildlife Sanctuary, Pollachi
9. Rajiv Gandhi Health Museum
10. The Rajiv Gandhi Museum of Natural History
11. Indira Gandhi Memorial museum, New Delhi
12. Jawaharlal Nehru museum in Aurangabad, Maharashtra opened by state govt.
13. Jawaharlal Nehru memorial Gallery, London
14. Jawaharlal Nehru planetarium, Worli, Mumbai.
15. Jawaharlal Nehru National Science Exhibition for Children
Hospitals/Medical Institutions:
1. Rajiv Gandhi University of Health Science, Bangalore, Karnataka
2. Rajiv Gandhi Cancer Institute & Research Centre, Delhi
3. Rajiv Gandhi Home for Handicapped, Pondicherry
4. Shri Rajiv Gandhi college of Dental… Science & Hospital, Bangalore, Karnataka
5. Rajiv Gandhi Centre for Bio Technology, Thiruvanthapuram, Kerala
6. Rajiv Gandhi College of Nursing, Bangalore, Karnataka
7. Rajiv Gandhi Super Specialty Hospital, Raichur
8. Rajiv Gandhi Institute of Chest Diseases, Bangalore, Karnataka
9. Rajiv Gandhi Paramedical College, Jodhpur
10. Rajiv Gandhi Medical College, Thane, Mumbai
11. Rajiv Gandhi Institute of Pharmacy, Karnataka
12. Rajiv Gandhi Hospital, Goa
13. Rajiv Gandhi Mission on Community Health, Madhya Pradesh
14. Rajiv Gandhi Super Specialty Hospital, Delhi
15. Rajiv Gandhi Homoeaopathic Medical College, Chinar Park, Bhopal, M.P
16. North Eastern Indira Gandhi Regional Institute of Health & Medical Sciences , Shilong, Meghalaya
17. Indira Gandhi Medical College, Shimla
18. Indira Gandhi Institute of Child Health, Bangalore
19. Indira Gandhi Institute of Medical Sciences, Sheikhpura, Patna
20. The Indira Gandhi Paediatric Hospital, Afghanistan
21. Indira Gandhi Institute of Child Health Hospital, Dharmaram College, Bangalore
22. Indira Gandhi Institute of Child Heath, Bangalore
23. Indira Gandhi Medical College, Shimla
24. Indira Gandhi Institute of Dental Science, Kerala
25. Indira Gandhi Memorial Ayurvedic Medical College & Hospital, Bhubaneshwar
26. Indira Gandhi Government Medical College and Hospital, Nagpur
27. Indira Gandhi Eye Hospital And Research Centre, Kolkata
28. Indira Gandhi Hospital, Shimla
29. Indira Gandhi Women and Children Hospital , Bhopla
30. Indira Gandhi Gas Relief hospital, Bhopal
31. Kamla Nehru Hospital, Shimla
32. Chacha Nehru Bal Chikitsalaya
33. Jawaharlal Institute of Postgraduate Medical Education and Research (JIPMER), Puducherry
34. Jawaharlal Nehru Cancer Hospital and Research Centre, Bhopal
35. Jawaharlal Nehru Medical College in Raipur.
36. Nehru Homoeopathic Medical College & Hospital, New Delhi
37. Nehru, Science Centre, Worli, Mumbai
38. Jawaharlal Nehru Cancer Hospital & Research Centre, Bhopal
39. Pandit Jawaharlal Nehru Institute of Homoeopathic Medical Sciences, Maharashtra
40. Indira Gandhi hospital Dwarka, Delhi

Institutions / Chairs / Festivals:
1. Rajiv Gandhi National Institute of Youth Development. (RGNIYD), Ministry of Youth and Sports
2. Rajiv Gandhi National Ground Water Training & Research Institute, Faridabad, Haryana
3. Rajiv Gandhi Food Security Mission in Tribal Areas
4. Rajiv Gandhi National Institute of Youth Development
5. Rajiv Gandhi Shiksha Mission, Chhattisgarh
6. Rajiv Chair Endowment established in 1998 to create a Chair of South Asian Economics
7. Rajiv Gandhi Project – A pilot to provide Education thru Massive Satellite Connectivity up grassroot Level
8. Rajiv Gandhi Rural Housing Corporation Limited (Government of Karnataka Enterprise)
9. Rajiv Gandhi Information and Technology Commission
10. Rajiv Gandhi Chair for Peace and Disarmament
11. Rajiv Gandhi Music Festival
12. Rajiv Gandhi Memorial Lecture
13. Rajiv Gandhi Akshay Urja Diwas
14. Rajiv Gandhi Education Foundation, Kerala
15. Rajiv Gandhi Panchayati Raj Convention
16. The Rajiv Gandhi Memorial Educational and Charitable Society, Kasagod,Kerala
17. Rajiv Gandhi Memorial trophy ekankika spardha, Prerana Foundation, Kari Road
18. Indira Gandhi National Centre for the Arts, Janpath, New Delhi
19. Indira Gandhi Panchayati Raj & Gramin Vikas Sansthan, Jaipur, Rajasthan
20. Indira Gandhi Centre for Atomic Research (IGCAR), Kalpakkam
21. Indira Gandhi Institute for Development and Research , Mumbai
22. Indira Gandhi Institute of Cardiology (IGIC), Patna
23. Indira Gandhi National Center for the Arts, New Delhi
24. Indira Gandhi National Foundation, Thiruvananthapuram, Kerala
25. Indira Gandhi Mahila Sahakari Soot Girani Ltd, Maharashtra
26. Indira Gandhi Conservation Monitoring Centre , Ministry of Environment & Forest
27. Post-Graduate Indira Gandhi Scholarship for Single Girl Child
28. Jawahar Shetkari Sahakari Sakhar Karkhana Ltd.
29. Nehru Yuva Kendra Sangathan
30. Jawaharlal Nehru Centenary celebrations
31. Postal stamps of different denominations and one Rupee coins in memory of Jawaharlal Nehru.
32. Jawaharlal Nehru Memorial Trust (U.K.) Scholarships
33. Jawaharlal Nehru Custom House Nhava Sheva, Maharashtra
34. Jawaharlal Nehru Centre for. Advanced Scientific Research, Bangalore
35. Jawaharlal Nehru Cultural Centre, Embassy of India, Moscow
36. Pandit Jawaharlal Nehru Udyog Kendra for Juveniles, Pune, Maharastra
37. Pandit Jawaharlal Nehru college of agriculture and research institute , Pondicherry

Roads/Buildings/places:
1. Rajiv Chowk, Delhi
2. Rajiv Gandhi Bhawan, Safdarjung, New Delhi
3. Rajiv Gandhi Handicrafts Bhawan, New Delhi
4. Rajiv Gandhi Park, Kalkaji, Delhi
5. Indira Chowk, New Delhi
6. Nehru Planetarium, New Delhi
7. Nehru Yuvak Kendra, Chanakyapuri, New Delhi
8. Nehru Nagar, New Delhi
9. Nehru Place, New Delhi
10. Nehru Park, New Delhi Nehru House, BSZ Marg, New Delhi
11. Jawaharlal Nehru Government House New Delhi
12. Rajiv Gandhi Renewable Energy Park, Gurgaon, Haryana
13. Rajiv Gandhi Chowk, Andheri, Mumbai
14. Indira Gandhi Road, Mumbai
15. Indira Gandhi Nagar, Wadala, Mumbai
16. Indira Gandhi Sports Complex, Mulund, Mumbai
17. Nehru Nagar, Kurla, Mumbai
18. Jawaharlal Nehru gardens at Thane, Mumbai
19. Rajiv Gandhi Memorial Hall, Chennai
20. Jawaharlal Nehru Road, Vadapalani, Chennai, Tamilnadu
21. Rajiv Gandhi Salai (Old Mahabalipuram road named after Rajiv Gandhi)
22. Rajiv Gandhi Education City, Haryana
23. Mount Rajiv, a peak in Himalaya
24. Rajiv Gandhi IT Habitat, Goa
25. Rajiv Gandhi Nagar, Chennai
26. Rajiv Gandhi Park, Vijayawada
27. Rajiv Gandhi Nagar in Coimbatore, Tamil Nadu
28. Rajiv Gandhi Nagar, Trichy, Tamil Nadu
29. Rajiv Gandhi IT Park, Hinjewadi, Pune
30. Rajiv Gandhi Panchayat Bhav , Palanpur Banaskantha
31. Rajiv Gandhi Chandigarh Technology Park, Chandigarh
32. Rajiv Gandhi Smriti Van, Jharkhand
33. Rajiv Gandhi statue, Panaji, Goa
34. Rajiv Gandhi Road, Chittoor
35. Rajiv Gandhi Memorial at Sriperumbudur
36. Indira Gandhi Memorial Library, University of Hyderabad
37. Indira Gandhi Musical Fountains, Bangalore
38. Indira Gandhi Planetarium , Lucknow
39. Indira Gandhi Centre for Indian Culture (IGCIC), High Commission of India, Mauritus
40. Indira Gandhi Zoological Park, Eastern Ghats of India
41. Indira Gandhi Canal, Ramnagar, Jaisalmer
42. Indira Gandhi Industrial Complex, Ranipet, Vellore District
43. Indira Gandhi Park, Itanagar
44. Indira Gandhi Squiare , Pondicherry
45. Indira Gandhi Road, Willingdon Island, Cochin
46. Indira Gandhi Memorial Tulip Garden, Kashmir
47. Indira Gandhi Sagar Dam, Nagpur
48. Indira Gandhi bridge, Rameshvar, Tamil Nadu
49. Indira Gandhi Hospital, Bhiwandi Nizampur Municipal Corporation
50. Indira Gandhi memorial cultural Complex, UP Govt.
51. Indira Gandhi Sports Stadium, Rohru District, Shimla
52. Indira Gandhi Panchayati Raj Sansthan , Bhopal
53. Indira Gandhi Nagar, Rajasthan
54. Indira Nagar, Lucknow
55. Roads are named after Jawaharlal Nehru in many cities e.g. in Jaipur, Nagpur, Vile Parle, Ghatkopar, Mulund etc.
56. Nehru Nagar, Ghaziabad
57. Jawaharlal Nehru Gardens, Ambarnath
58. Jawarharlal Nehru Gardens, Panhala
59. Jawaharlal Nehru market, Jammu.
60. Jawaharlal Nehru Tunnel on the Jammu Srinagar Highway
61. Nehru Chowk, Ulhas Nagar, Maharashtra.
62. Nehru Bridge on the river Mandvi, Panaji, Goa
63. Nehru Nagar Ghaziabad
64. Jawaharlal Nehru Road, Dharmatala, Kolkata
65. Nehru Road, Guwahati
66. Jawahar Nagar, Jaipur
67. Nehru Vihar Colony, Kalyanpur, Lucknow
68. Nehru Nagar, Patna
69. Jawaharlal Nehru Street, Pondicherry
70. Nehru Bazaar, Madanapalli, Tirupathi
71. Nehru Chowk, Bilaspur. MP
72. Nehru Street, Ponmalaipatti, Tiruchirapalli
73. Nehru Nagar, S.M. Road, Ahmedabad
74. Nehru Zoological Park, Hyderabad
75. Rajiv Gandhi Zoological park (Zoo), Pune
76. Rajiv Gandhi Infotech Park, Hinjewadi, Pune.
77. Nehru Nagar, Nashik Pune. Road. And many more.

Additionally, there are 100+ state and central government schemes named after Nehru-Indira-Rajiv.

Here we have list of things named after Sanjay Gandhi:
Sanjay Gandhi National Park, Mumbai.
Sanjay Gandhi Memorial Hospital, New Delhi.
Sanjay Gandhi Postgraduate Institute of Medical Science, Lucknow.
Sanjay Gandhi Animal care center, New Delhi.
Sanjay Gandhi Institute if Trauma and orthopaedic (SGITO), Bangalore.
Sanjay Gandhi Hospital, Jayanagar, Bangalore.
Sanjay Gandhi Memorial Hospital, Rewa, MP.
Sanjay Gandhi Award in Environment and Ecology
Sanjay Gandhi institute of dairy technology, Patna.
Sanjay Gandhi Biological Park , Patna.
Sanjay Gandhi Polytechnic college, Bellary
Sanjay Gandhi Polytechnic college, Jagadish pur, Amethi
Sanjay Gandhi College of Education, Bangalore.
Sanjay Gandhi College of Nursing, Bangalore.
Sanjay Gandhi memorial College, Ranchi.
Sanjay Gandhi Mahila College, Gaya
Sanjay Gandhi Govt. Autonomous PG College, Sidhi, MP.
Sanjay Gandhi College, Shimla.
Sanjay Gandhi College of Nursing,Sultanpur, Delhi.
Sanjay Gandhi College and Research center, Vidhisha, MP.
Sanjay Gandhi BEd College, Vidhisha, MP.
Sanjay Gandhi Sarvodaya Science College, jabalpur.
Sanjay Gandhi Inter college, Saran, Bihar.
Sanjay Gandhi College of Law, Jaipur.
Sanjay Gandhi Memorial Government polytechnic College, Hyderabad.
Sanjay Gandhi PG College, Sururpur, Meerut, UP.
Sanjay Gandhi Stadium, Patna.
Sanjay Gandhi Stadium, Narsingharh, MP.
Sanjay Gandhi Market, Jalandhar.
Sanjay Gandhi Transport nagar, Delhi.
Please share this and let the country know the massive
Misuse of power by the Congress in favour of the Gandhi-Nehru family.
Thank Academy.
40. Jawaharlal Nehru award for International peace worth Rs 15 lakh cash given to many international figures, every year, including Yasser Arafat of Palestine Liberation Front in 1988 and U Thant in 1965.
41. Soviet Land Nehru Award, a cash prize of Rs. 20,000 given to Shyam Benegal in Dec 89, in recognition of the above film.
42. Jawaharlal Nehru Balkalyan awards of Rs.10,000 each to 10 couples by Govt. of Maharashtra (ToI-28-4-89).
43. Jawaharlal Nehru Memorial Fund, New Delhi, for Academic Achievement
44. Jawaharlal Nehru birth centenary research award for energy
45. Jawaharlal Nehru Award for International Understanding
46. Nehru Bal Samiti Bravery Awards
47. Jawaharlal Nehru Memorial Medal
48. Jawaharlal Nehru Prize” from 1998-99, to be given to organizations (preferably NGOs) for Popularization of Science.
49. Jawaharlal Nehru National Science Competition
50. Jawarharlal Nehru Student Award for research project of evolution of DNA House, BSZ Marg, New Delhi
11. Jawaharlal Nehru Government House New Delhi
12. Rajiv Gandhi Renewable Energy Park, Gurgaon, Haryana
13. Rajiv Gandhi Chowk, Andheri, Mumbai
14. Indira Gandhi Road, Mumbai
15. Indira Gandhi Nagar, Wadala, Mumbai
16. Indira Gandhi Sports Complex, Mulund, Mumbai
17. Nehru Nagar, Kurla, Mumbai
18. Jawaharlal Nehru gardens at Thane, Mumbai
19. Rajiv Gandhi Memorial Hall, Chennai
20. Jawaharlal Nehru Road, Vadapalani, Chennai, Tamilnadu
21. Rajiv Gandhi Salai (Old Mahabalipuram road named after Rajiv Gandhi)
22. Rajiv Gandhi Education City, Haryana
23. Mount Rajiv, a peak in Himalaya
24. Rajiv Gandhi IT Habitat, Goa
25. Rajiv Gandhi Nagar, Chennai
26. Rajiv Gandhi Park, Vijayawada
27. Rajiv Gandhi Nagar in Coimbatore, Tamil Nadu
28. Rajiv Gandhi Nagar, Trichy, Tamil Nadu
29. Rajiv Gandhi IT Park, Hinjewadi, Pune
30. Rajiv Gandhi Panchayat Bhav , Palanpur Banaskantha
31. Rajiv Gandhi Chandigarh Technology Park, Chandigarh
32. Rajiv Gandhi Smriti Van, Jharkhand
33. Rajiv Gandhi statue, Panaji, Goa
34. Rajiv Gandhi Road, Chittoor
35. Rajiv Gandhi Memorial at Sriperumbudur
36. Indira Gandhi Memorial Library, University of Hyderabad
37. Indira Gandhi Musical Fountains, Bangalore
38. Indira Gandhi Planetarium , Lucknow
39. Indira Gandhi Centre for Indian Culture (IGCIC), High Commission of India, Mauritus
40. Indira Gandhi Zoological Park, Eastern Ghats of India
41. Indira Gandhi Canal, Ramnagar, Jaisalmer
42. Indira Gandhi Industrial Complex, Ranipet, Vellore District
43. Indira Gandhi Park, Itanagar
44. Indira Gandhi Squiare , Pondicherry
45. Indira Gandhi Road, Willingdon Island, Cochin
46. Indira Gandhi Memorial Tulip Garden, Kashmir
47. Indira Gandhi Sagar Dam, Nagpur
48. Indira Gandhi bridge, Rameshvar, Tamil Nadu
49. Indira Gandhi Hospital, Bhiwandi Nizampur Municipal Corporation
50. Indira Gandhi memorial cultural Complex, UP Govt.
51. Indira Gandhi Sports Stadium, Rohru District, Shimla
52. Indira Gandhi Panchayati Raj Sansthan , Bhopal
53. Indira Gandhi Nagar, Rajasthan
54. Indira Nagar, Lucknow
55. Roads are named after Jawaharlal Nehru in many cities e.g. in Jaipur, Nagpur, Vile Parle, Ghatkopar, Mulund etc.
56. Nehru Nagar, Ghaziabad
57. Jawaharlal Nehru Gardens, Ambarnath
58. Jawarharlal Nehru Gardens, Panhala
59. Jawaharlal Nehru market, Jammu.
60. Jawaharlal Nehru Tunnel on the Jammu Srinagar Highway
61. Nehru Chowk, Ulhas Nagar, Maharashtra.
62. Nehru Bridge on the river Mandvi, Panaji, Goa
63. Nehru Nagar Ghaziabad
64. Jawaharlal Nehru Road, Dharmatala, Kolkata
65. Nehru Road, Guwahati
66. Jawahar Nagar, Jaipur
67. Nehru Vihar Colony, Kalyanpur, Lucknow
68. Nehru Nagar, Patna
69. Jawaharlal Nehru Street, Pondicherry
70. Nehru Bazaar, Madanapalli, Tirupathi
71. Nehru Chowk, Bilaspur. MP
72. Nehru Street, Ponmalaipatti, Tiruchirapalli
73. Nehru Nagar, S.M. Road, Ahmedabad
74. Nehru Zoological Park, Hyderabad
75. Rajiv Gandhi Zoological park (Zoo), Pune
76. Rajiv Gandhi Infotech Park, Hinjewadi, Pune.
77. Nehru Nagar, Nashik Pune. Road. And many more.

Additionally, there are 100+ state and central government schemes named after Nehru-Indira-Rajiv.
Here we have the list of things named after Sanjay Gandhi.
Sanjay Gandhi National Park, Mumbai.
Sanjay Gandhi Memorial Hospital, New Delhi.
Sanjay Gandhi Postgraduate Institute of Medical Science, Lucknow.
Sanjay Gandhi Animal care center, New Delhi.
Sanjay Gandhi Institute if Trauma and orthopaedic (SGITO), Bangalore.
Sanjay Gandhi Hospital, Jayanagar, Bangalore.
Sanjay Gandhi Memorial Hospital, Rewa, MP.
Sanjay Gandhi Award in Environment and Ecology
Sanjay Gandhi institute of dairy technology, Patna.
Sanjay Gandhi Biological Park , Patna.
Sanjay Gandhi Polytechnic college, Bellary
Sanjay Gandhi Polytechnic college, Jagadish pur, Amethi
Sanjay Gandhi College of Education, Bangalore.
Sanjay Gandhi College of Nursing, Bangalore.
Sanjay Gandhi memorial College, Ranchi.
Sanjay Gandhi Mahila College, Gaya
Sanjay Gandhi Govt. Autonomous PG College, Sidhi, MP.
Sanjay Gandhi College, Shimla.
Sanjay Gandhi College of Nursing,Sultanpur, Delhi.
Sanjay Gandhi College and Research center, Vidhisha, MP.
Sanjay Gandhi BEd College, Vidhisha, MP.
Sanjay Gandhi Sarvodaya Science College, jabalpur.
Sanjay Gandhi Inter college, Saran, Bihar.
Sanjay Gandhi College of Law, Jaipur.
Sanjay Gandhi Memorial Government polytechnic College, Hyderabad.
Sanjay Gandhi PG College, Sururpur, Meerut, UP.
Sanjay Gandhi Stadium, Patna.
Sanjay Gandhi Stadium, Narsingharh, MP.
Sanjay Gandhi Market, Jalandhar.
Sanjay Gandhi Transport nagar, Delhi.

And, a single statue of Patel, another Congressman, has become indigestible to them & their Chelas! What a shameless act!! Hell with these people.

So if you don’t vote for congress you won’t be able to see India named with Rahul Gandhi. It would be because of you that the old Congress tradition of naming everything after “Nehru, Indira, Rajiv, Sanjay, Rahul Gandhi” would end. That would be a sin! It is the misuse of power by the Congress in favour of the Gandhi-Nehru family.

Priyanka’s Temple-hopping: Genuine or fake?


By: Parmanand Pandey, Advocate, Supreme Court (Secretary General IPC)

If somebody wants to go to any temple, why should any objection be raised by anybody? If Priyanka Vadra Gandhi has decided to take a dip in the holy Sangam, do pooja at the temple of Baba Vishwanath in Varanasi and have darshan of Maa Vindhyavasini at Vindhyachal, it should not be the cause of stomach-ache for anyone. But it is a half-truth. The eyebrows are bound to be raised if somebody goes to the temple only for showing and attracting the attention of others. The motive in that case is not the consolidation of faith but to garner votes of the gullible masses, and, then, these visits to the temples are not only farcical but deserve to be detested and condemned in no uncertain terms.

    This is what we find in the case of Priyanka Gandhi and her brother Rahul Gandhi. Their ideas appear to be frozen in the time warp of their grandmother, Indira Gandhi. People did not have any doubt about the faith of Indira ji. Election or no election she used to go to temples and had all the respects for the religion that she espoused. Brahmins, the so-called custodians of Hindu religion, had all respect for her feelings. But that is totally missing in Rahul and Priyanka and nobody is ready to believe that they have genuine faith in their outwardly religious conducts.

Having said it one must know that the beauty of Hinduism is that it is all-encompassing. An atheist is as much a Hindu as a theist. One may believe in any God or may not believe at all, he/she is a Hindu till he/she renounces and embraces any other faith or chooses to remain away from it. One will be aghast to know a fact that when Swami Dayanand Saraswati once visited Tehri palace (presently in Uttarakhand), the king took him to his sprawling kitchen and showed him how the buffaloes were being butchered? Swami ji could not stand there for a minute and rebuked the king for converting his kitchen into an abattoir for killing the male buffaloes in the name of satiating any Devi. He was appalled that the king was doing it at the suggestion of Brahmin priests, who were also accustomed to eating the meat.

So when even the meat-eating Brahmins could become the priests of a religion where Ahimsa is considered to be its fulcrum, then anybody can be a Hindu provided he/she does not claim to be otherwise. It is well known fact that Hindu religion is founded on the integrity of one’s intention. This religion does not countenance an intention that is rooted in deception. Deceiving others by faigning that he or she is a Hindu – while in fact in his or her intentions he or she is not –  has never been appreciated by ordinary Hindus in this country. Nevertheless, people have now become fully aware that who is a faithful Hindu and who is trying to cheat them by skylarking as a Hindu for the sake of votes.

Will Artificial Intelligence lead to Immortality?


By: Parmanand Pandey, Advocate, Supreme Court (Secretary General IPC)

Yuval Noah Harari, who is still in his early forties has taken the world by storm by his three wonderful books – ‘Sapiens-A Brief History of Mankind’, ‘Homo Dues- A Brief History of Tomorrow’ and ‘21 Lessons for the 21st Century’. He is an insightful historian. The way he has analysed and thrown lights on the facts from the beginning of the Homo sapiens till today and the things to shape in the future is amazing, to say the least. But there is a section which denigrates him as a writer of ‘liberal elites’ because he has established with his unique logic that religion, socialism and many other forms of social structures and governments will be the things of the past.

The Communist Manifesto proclaims that: The history of all hitherto existing society is the history of class struggles. (Note: Marx later on added words to ‘history’ as “history, that is written history” that excluded the prehistoric period of ancient primitive society, which society was held by him without class struggle). Freeman and slave, patrician and plebian, lord and serf, guild master and journeyman, in a word, oppressor and oppressed, stood in constant opposition to one another. Society as a whole is more and more splitting up into two great hostile camps, into two great classes directly facing each other: Bourgeoisie and Proletariat. But when the Artificial Intelligence and Algorithm will replace the workers and managers nobody will exploit anybody. So where is the question of two hostile camps? Even today the communism has largely been rejected across the globe because now it no longer appeals to reason and imagination of the people.

The inexorable march of science will assert the supremacy of the Silicon Valley (Silicon Valley is a symbol), which will force the countries to give up the war and hostility. Artificial Intelligence will help produce the children, who will have immunity from the diseases. Death will be just a technical problem. There will be gadgets, which will forewarn about all the ills and ailments that may inflict any human being but the flip side of it will be that man/ women will always be haunted by some or other illnesses, which may lead to the incurable depression. Thus, the man can either evolve into a superman or will degenerate into subhuman. However, a question always lingers in mind that one can have all the paraphernalia, but can you write about love without human feelings? Terrorism, which has scared the whole world will be defeated only by the technology, which has partially been seen in the recent precision strike by the Indian Airforce in Balakot or the killing of Osama Bin Laden earlier in the Pakistani military haven,

In the days to come the agriculture, which used to provide jobs and foods to almost hundred per cent people at the beginning of the Homo Sapiens will not be pursued even by one per cent population because of the liberal use of the robotic technology developed by Artificial Intelligence. Most of the jobs will become redundant thanks to technology. The so-called debate and passionate discussion on the protection of individual privacy are meaningless because Artificial Intelligence will debunk them. Wars will be the things of the past, however, if it is ever fought, it will reduce the role of the humans to the minimum. He (Harari) has opined that ‘you are more likely to commit suicide than be killed in a conflict’. There will be no famine in the future but’ you are more at risk of dying due to obesity than starvation’.

Yuval Noah Harari is a Jew, but he regularly practices Vipassana and the Yoga for two hours every day, which gives him enough energy to cope with the challenges for another twenty-two hours. Written in simple and elegant language and in an engaging style, all three parts are un-put-downable.

Previous Older Entries

%d bloggers like this: